- एयरपोर्ट के एग्जिट गेट पर तैनात सीआईएसएफ कर्मी शशि लखड़ा ने सांसद रामकृपाल यादव को जाने से रोका

- सीआईएसएफ के सीनियर ऑफिसर ने बताया कि एयरपोर्ट की सिक्योरिटी वन वे सिस्टम पर चलती है

patna@inext.co.in

PATNA: पटना एयरपोर्ट पर मंगलवार को उस समय हंगामा मच गया, जब एयरपोर्ट पर रामकृपाल यादव पहुंचे और वो अंदर एग्जिट गेट से होकर अंदर जाने की कोशिश कर रहे थे कि तभी एग्जिट गेट पर तैनात महिला सीआईएसएफ कर्मी ने उन्हें रोक दिया. इस दौरान सांसद ने अपना परिचय तक दिया, पर महिला सीआईएसएफ कर्मी ने साफ शब्दों में कह दिया कि आपको इस गेट से अंदर नहीं जाने दिया जाएगा. उन्होंने कहा आप दूसरे गेट से होकर अंदर आए. इस बीच, दोनों तरफ से जमकर बहस हुई, मगर महिला सीआईएसएफ सुरक्षा कर्मी ने उन्हें अंदर जाने नहीं दिया.

वन वे सिस्टम के तहत

दरअसल, मामला एयरपोर्ट की सिक्योरिटी और उसके सिस्टम के खिलाफ था. सांसद रामकृपाल यादव जिस एग्जिट गेट से जाना चाह रहे थे. उस गेट से एयरपोर्ट पर कोई भी आ जा नहीं सकता है, तब तक जब कि एयरपोर्ट ऑथॅरिटी की ओर से कोई आदेश न दिया जाए. सीआईएसएफ के सीनियर ऑफिसर ने बताया कि एयरपोर्ट की सिक्योरिटी वन वे सिस्टम पर चलती है. यहां आने-जाने वाले हर ऑफिसर से लेकर कर्मी तक या फिर पैसेंजर तक. जितनी बार अंदर और बाहर करेंगे, वो वन वे सिस्टम को ही फॉलो करते हुए करेंगे. अगर कोई सिस्टम के खिलाफ जाएगा, तो उसके खिलाफ कार्रवाई कर दी जाती है. इसी वजह से सांसद रामकृपाल यादव को रोका गया.

बंडारू को रिसीव करने आए थे रामकृपाल

सेंट्रल मिनिस्टर बंडारु दत्तात्रेय अपनी एक दिनी यात्रा पर पटना आए थे. उन्हीं को रिसीव करने के लिए सांसद रामकृपाल यादव एयरपोर्ट गए थे, पर एग्जिट गेट से जैसे ही वो अंदर जाने की कोशिश की, तो वहां पर तैनात सीआईएसएफ की हवलदार शशि लखड़ा ने उन्हें रोक दिया. इस दौरान दोनों में जमकर बहस भी हुई, मगर शशि लखड़ा ने उन्हें अंदर जाने नहीं दिया. इस दौरान जब मीडिया आ गई तो सांसद रामकृपाल यादव ने अपनी गलती मानी, वहीं हवलदार शशि लखड़ा ने कहा कि वे नॉ‌र्म्स को फॉलो कर रही थीं. अगर वो ऐसा नहीं करतीं, तो फिर उसकी नौकरी पर संकट थी. एयरपोर्ट की सिक्योरिटी के लिहाज से यह कदम उठाया गया है.