अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेन्द्र गिरि ने आंदोलन की दी चेतावनी

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: सीपीएम नेता सीताराम येचुरी के बयान 'रामायण और महाभारत में हिंसा के कई उदाहरण देखे गए हैं और हिन्दू शासकों ने भी हिंसा की है' पर संत समुदाय आग बबूला हो गया है। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने कहा है कि सीताराम येचुरी जैसे विचारधारा के लोग देश में दहशत फैलाना चाहते है। वे लिखित माफी नहीं मांगते हैं तो परिषद के सभी अखाड़ों की नागा सेना को तैयार करके उनके खिलाफ आंदोलन करेंगे।

संत-महात्माओं से किया आहवान

परिषद अध्यक्ष नरेन्द्र गिरि ने श्री पंचायती अखाड़ा निरंजनी, श्री पंच दशनाम जूना अखाड़ा व श्री पंचायती अखाड़ा महानिर्वाणी सहित अन्य अखाड़ों से जुड़े संत-महात्माओं और नागाओं से आहवान किया है कि जो जहां पर है वहीं से सीताराम येचुरी का जोरदार तरीके से विरोध दर्ज कराए। शनिवार को परिषद अध्यक्ष ने सभी अखाड़ों के श्रीमहंतों को पत्र भी लिखा गया है। श्री गिरि ने सभी हिन्दू सनातनधर्मियों युवाओं से अपील की है कि सोशल मीडिया के माध्यम से विरोध करें ताकि उन्हें माफी मांगने पर मजबूर किया जा सके।

सीताराम येचुरी को हिन्दू सनातन संस्कृति का ज्ञान नहीं है। रामायण और महा भारत में कभी भी हिन्दू धर्म को हिंसक नहीं दिखाया गया है। रामायण और महाभारत में उनका वध किया गया है जो दानव प्रवृत्ति के थे या उसके अनुयायी थे। वे लिखित माफी नहीं मांगते हैं तो विशाल आंदोलन के लिए अखाड़ा परिषद की आपात बैठक बुलाकर आंदोलन की रूपरेखा तय की जाएगी।

नरेन्द्र गिरि, अध्यक्ष अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद