अखिलेश कन्नौज और मुलायम मैनपुरी से लड़ेंगे लोकसभा चुनाव

- कन्नौज में कार्यकर्ताओं की बैठक के दौरान अखिलेश ने की घोषणा

- कहा, मैनेजमेंट से चुनाव जीतने की रणनीति पर काम कर रही सपा

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW

समाजवादी पार्टी सुप्रीमो व पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने गुरुवार को एलान किया कि 2019 के लोकसभा चुनाव में वे खुद कन्नौज से और उनके पिता व पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव मैनपुरी से चुनाव लड़ेंगे. उन्होंने कहा कि जब भाजपा परिवारवाद खत्म नहीं कर रही है तो हम क्यों करें. वह सपा मुख्यालय में कन्नौज संसदीय क्षेत्र के कार्यकर्ताओं के साथ बैठक कर रहे थे. बैठक में अखिलेश के साथ उनकी पत्नी और कन्नौज से सांसद डिम्पल यादव भी मौजूद थीं.

सपा भी करेगी चुनाव मैनेजमेंट

बंगला विवाद में घिरे अखिलेश बैठक में भाजपा को लेकर अधिक खफा थे. उन्होंने भाजपा को हराने के लिए गठबंधन को जरूरी बताया और कहा कि वह दूसरे दलों की रणनीति को समझने की कोशिश कर रहे हैं. उन्हें समझ आ रहा है कि चुनाव मैनेजमेंट से जीता जाता है. अब सपा भी इस रणनीति से भाजपा को हराने का काम करेगी. अभी हम अपनी रणनीति का राजफाश नहीं करेंगे क्योंकि हम लगातार चार चुनाव भाजपा को हरा चुके हैं.उन्होंने कहा कि भाजपा से नई तकनीक के दुरुपयोग का खतरा है. विशेष तौर पर संचार माध्यमों फेसबुक व वाट्सएप पर झूठ फैलाने में प्रयोग हो सकता है.

खुद करेंगे चुनाव तैयारियों की समीक्षा

डिजिटल इंडिया का प्रयोग विपक्ष के चरित्र हनन व अफवाहें फैलाने में किया जा सकता है. आरएसएस गावों तक अफवाहें फैलाने के अभियान की रणनीति पर काम कर रहा है, जिसका मुकाबला बूथ स्तर तक समाजवादी संगठन को मजबूत करने से होगा. उन्होंने कहा कि हमारा प्रयास होगा कि भाजपा दोबारा सत्ता में नहीं आने पाए. इसके लिए गठबंधन की रणनीति पर भी काम जारी है. बसपा या अन्य पार्टी का नाम लिए बिना उन्होंने कार्यकर्ताओं को गठबंधन के प्रत्याशियों को जिताने के लिए चुनावी तैयारी में जुटने की बात कही. उन्होंने कहा कि प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र की तैयारियों की वे खुद समीक्षा करेंगे.

चाय पर नहीं सच्चाई पर चर्चा करें

अखिलेश ने कहा कि भाजपाई पहले चाय पर चर्चा करते थे लेकिन, अब उन्हें सच्चाई पर चर्चा करने के लिए मजबूर किया जाना चाहिए. भाजपा के नेताओं को भी समझ लेना चाहिए कि इस बार संपर्क से नहीं सच्चाई से समर्थन मिल सकेगा. उन्होंने कहा कि केंद्र व प्रदेश सरकार के पास बताने के लिए कुछ भी नहीं है. वे केवल समाजवादियों के शुरू किए गए कामों का फीता काट रहे हैं. सीमा पर सैनिकों की शहादत और मेधावी छात्रों को दिए चेक बाउंस होने पर भी अखिलेश ने तंज करते हुए कहा कि लोगों में भाजपा के खिलाफ भारी गुस्सा है.