lucknow@inext.co.in

LUCKNOW : लोकसभा चुनाव के सातवें चरण का मतदान संपन्न होने के बाद एग्जिट पोल के नतीजों ने विपक्ष के नेताओं की धड़कनें बढ़ा दी हैं। दो दिन पहले तक सरकार बनाने की जुगत में लामबंदी कर रहे विपक्ष को एग्जिट पोल के नतीजों ने असमंजस में डाल दिया है। यही वजह है कि इसके बाद प्रमुख विपक्षी दलों के नेताओं ने चुप्पी साध ली है। सोमवार दोपहर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने अचानक बसपा सुप्रीमो मायावती के आवास पर जाकर उनसे मुलाकात की हालांकि दोनों ही नेता इस मुलाकात के दौरान हुई चर्चा के बारे में चुप्पी साधे रहे। अखिलेश ने वापस आने के बाद एक लाइन का ट्वीट किया कि 'अब अगले कदम की तैयारी'। अखिलेश के इस बयान के सियासी मायने तलाशे जाने लगे है।

दिल्ली जाने का कायर्क्रम नहीं

वहीं दूसरी ओर बसपा के राष्ट्रीय महासचिव ने भी सोमवार को एक बयान जारी कर उन कयासों पर विराम लगा दिया जिसमें मायावती के दिल्ली जाकर विपक्ष के शीर्ष नेताओं से मुलाकात करने की संभावना जताई जा रही थी। उन्होंने मायावती के दिल्ली जाकर विपक्ष के नेताओं से मुलाकात करने से साफ इंकार कर दिया। हालांकि इस बीच यह चर्चा भी है कि मायावती जल्द ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात कर सकती हैं। सूत्रों की मानें तो अखिलेश ने ममता बनर्जी से फोन पर बातचीत भी की है। ध्यान रहे कि हाल ही में चंद्रबाबू नायडू ने भी राजधानी आकर अखिलेश और मायावती से मुलाकात की थी और तीसरे मोर्चे की संभावना पर चर्चा की थी। हालांकि एग्जिट पोल आने के बाद बड़े नेताओं के बीच मुलाकातों का सिलसिला फिलहाल थमता नजर आ रहा है।