- प्रदेश के राहत आयुक्त ने सभी जिलाधिकारी को जारी किया अलर्ट

- उत्तराखंड में हो रही है बारिश, गोरखपुर और आसपास के इलाकों में बढ़ सकता है पानी

- बाढ़ के मद्देनजर इससे निपटने के उपाय करने के दिए निर्देश

GORKAHPUR: काफी इंतजार के बाद हुई बारिश शुरुआत में ही कहर बरपाने लगी है. उत्तराखंड में बारिश की वजह से जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. शुक्रवार रात शुरू हुई बरसात ने लोगों की परेशानी बढ़ा दी. वहीं मौसम विभाग ने उत्तराखंड में अगले 48 घंटो के दौरान भीषण बारिश की संभावना जताई है. इसको देखते हुए प्रदेश में भी अलर्ट जारी किया है. प्रदेश के राहत आयुक्त ने सभी जिलाधिकारियों को बाढ़ की तैयारियों को तेज करने के निर्देश दिए हैं.

बढ़ने लगी हैं नदियां

उत्तराखंड में लगातार हो रही बारिश की वजह हरिद्वार में गंगा नदी उफान पर है. इसकी वजह से यहां भी नदियों के तेवर बढ़ गए हैं. पिछले 24 घंटों में एल्गिन ब्रिज के पास घाघरा भी तेजी के साथ बढ़ने लगी है. अगर 48 घंटे यूं ही तेज बारिश होती है, तो नदियों का जलस्तर बढ़ना तय है. इसकी वजह से बाढ़ का खतरा भी बढ़ गया है. हालांकि गोरखपुर में बहने वाली रोहिन और राप्ती अभी खतरे के निशान से काफी नीचे बह रही है, लेकिन जिस तरह से दूसरी नदियां बढ़ रही हैं, उससे इनके भी जल्द बढ़ने की संभावना जताई जा रही है.

गोरखपुर एडमिनिस्ट्रेशन तैयार

बाढ़ की तैयारियों को लेकर जिला प्रशासन पहले से ही तैयार है. पिछले दिनों बाढ़ से निपटने और इस दौरान डूबने वालों को बचाने के लिए एक मेगा मॉक ड्रिल भी की गई थी. इसमें एनडीआरएफ, पीएसी, सिविल डिफेंस के साथ स्वयंसेवी संस्थाओं ने हिस्सा लिया था. इस दौरान एनडीआरएफ के जवानों ने लाइव डेमो दिखाया कि वह बाढ़ के दौरान कैसे रेस्क्यु ऑपरेशन को अंजाम देंगे.

उत्तराखंड में भीषण बारिश की वजह से राहत आयुक्त ने अलर्ट जारी किया है. उन्होंने बाढ़ से निपटने की सारी तैयारी करने के निर्देश दिए हैं. जिला प्रशासन इसके लिए पहले से तैयार है. इसकी तैयारियों को परखने के लिए पिछले दिनों मेगा मॉक ड्रिल भी आयोजित की गई.

- डॉ. चंद्र भूषण, एडीएम एफआर