-ब्रिटिश हाईकमीशन की ओर से मीडिया की भूमिका पर मंथन

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

क्कन्ञ्जहृन्: अंतरराष्ट्रीय लोकतंत्र दिवस पर शनिवार को ब्रिटिश हाईकमीशन और साउथ एशियन वूमेन इन मीडिय(साउम) ने संयुक्तरूप से मीडिया में आचार और नैतिकता विषय पर संगोष्ठी आयोजित की. भारत में ब्रिटेन की डिप्टी हाईकमिश्नर शाहिदा खान ने 'एथिकल जर्नलिज्म अंडर थ्रेट इन इंडिया' विषय पर आयोजित संगोष्ठी की अध्यक्षता की, जबकि साउम की बिहार चैप्टर की अध्यक्ष निवेदिता झा ने संचालन किया. वक्ताओं ने कहा कि मजबूत लोकतंत्र के लिए जरूरी है कि मीडिया स्वतंत्र रूप से काम करे. सोशल मीडिया लोगों तक खबरें पहुंचाने का एक तेजी से बढ़ता हुआ माध्यम है जिसपर ध्यान देने की जरूरत है. यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों तक पहुंच रहीं सूचनाएं गलत एवं भ्रामक न हों.

विमर्श के लिए प्लेटफार्म जरूरी

शाहिदा खान ने कहा कि कोलकाता स्थित ब्रिटिश हाईकमीशन बिहार, झारखंड देश के 13 राज्यों में अपनी गतिविधियां आरंभ की हैं. इस संगोष्ठी का मकसद बुद्धिजीवियों को महत्वपूर्ण विषय पर विमर्श के लिए एक प्लेटफार्म उपलब्ध कराना है. ब्रिटिशन हाईकमीशन की पॉलिटिकल इकोनॉमी एडवाइजर अजीता मेनन, आक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की रिसर्च स्कॉलर अनामिका झा, सीनियर डॉक्टर शकील, वरिष्ठ पत्रकार रजनी शंकर, माधुरी, सीटू तिवारी, मिथिलेश एवं चंदन आदि ने भी विचार रखे.