कुंभ मार्गदर्शक मंडल की पहली बैठक में दिया सुझाव

विकास कार्यो की टाइम लाइन में किया गया इजाफा

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: कुंभ मार्गदर्शक मंडल की शनिवार को हुई पहली बैठक में इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने का प्रस्ताव गवर्नर राम नाईक के सामने रखा गया तो उन्होंने इस पर अपनी सहमति जता दी. सीएम की मौजूदगी में तय किया गया कि प्रदेश कैबिनेट जल्द ही इस प्रस्ताव पर मुहर लगा देगी. इसके बाद नाम परिवर्तन की आगे की प्रक्रिया पूरी की जाएगी. सीएम योगी आदित्यनाथ ने शनिवार शाम सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत में कहा कि सुझाव पर राज्यपाल राम नाईक ने सहमति जताई है और प्रदेश सरकार इस मामले में जल्द फैसला लेगी. अपने दो दिनी इलाहाबाद प्रवास के दौरान सीएम बैठक में शामिल रहे, जिसकी अध्यक्षता राज्यपाल ने की.

दशहरा के पहले लेंगे फैसला

सर्किट हाउस में शनिवार शाम हुई मार्गदर्शक मंडल की पहली बैठक में इलाहाबाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस डीबी भोसले, राज्यपाल रामनाईक, अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि, पूर्व जस्टिस गिरिधर मालवीय सहित तमाम लोग उपस्थित रहे. बताया जाता है कि इसमें इलाहाबाद का नाम प्रयागराज करने का सुझाव आया तो सीएम ने भरोसा दिलाया कि दशहरा से पहले कैबिनेट की मिटिंग बुलाकर इस प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी जाएगी. पूरी मिटिंग इसी पर कंसंट्रेटेट थी और सीएम का ग्रीन सिग्नल मिलने के बाद दूसरा कोई मुद्दा प्रमुखता से उठा ही नहीं.

अब 15 दिसंबर तक पूरे होंगे कार्य

कुंभ के विकास कार्यो की टाइम लिमिट बढ़ाकर 15 दिसंबर कर दी है

कुल 443 परियोजनाओं को कुंभ में अनुमति दी गई थी

92 परियोजनाएं पूरी हो गई हैं

88 की टाइम लिमिट 15 से 20 अक्टूबर कर दी गई है

250 परियोजना 30 अक्टूबर तक पूरी होंगी

164 परियोजना अस्थाई प्रकृति की हैं जो 15 दिसंबर तक पूरी होंगी

शेष बचे विकास कार्य 15 नवंबर तक पूरे किये जाएंगे

विदेशी और एनआरआई बढ़ाएंगे शान

सीएम योगी ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी की प्रेरणा से कुंभ को देश-दुनिया में प्रचारित करने की कवायद चल रही है. यूनेस्को ने भी मान्यता दे दी है. पीएम के प्रयास से वाराणसी में 21 से 23 जनवरी के बीच अप्रवासी भारतीयों का सम्मेलन होगा. जिसमें भाग लेने वाले 8 से 10 हजार एनआरआई ने कुंभ में आने की सहमति जताई है. इसके अलावा दुनिया के 192 देशों के प्रतिनिधि भी कुंभ में हिस्सा लेंगे. बिना आमंत्रण 12 से 15 करोड़ श्रद्धालुओं का प्रयाग की धरती पर आना एक सुखद और अलोकिक अनुभव होगा.

कुंभ को प्रदेश सरकार की सौगातें

11400 सफाई कर्मी लगाए जाएंगे

20000 से अधिक कूड़ेदान लगेंगे

3200 हेक्टेयर में लगेगा मेला

40700 एलईडी लाइट लगेंगी

105 किमी लंबी हाई टेंशन लाइन

175 हाई मास्ट

1.25 लाख नई चकर्ड प्लेटें लगाई जाएगी

100 से अधिक मिल्क पोत होंगे.

5000 से अधिक शुद्धजल के स्टैंड पोस्ट बनेंगे.

20 एटीएम लगाए जाएंगे.

4 बैंकों की विभिन्न शाखाएं होंगी.

प्रदेश के पांच स्थानों पर वैचारिक कुंभ का आयोजन

डिजिटल कुंभ के लिए अध्यात्मिक वेबसाइट और मोबाइल ऐप होगा

कर सकेंगे सरस्वती कूप और अक्षयवट के दर्शन