साइकिल से चलते हैं, खुद फावड़ा चलाने में भी नहीं है गुरेज

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी में बॉटनी डिपार्टमेंट के प्रोफेसर एनबी सिंह युवाओं के लिए पे्ररणास्रोत हैं. एनबी सिंह को इविवि कैम्पस में ग्रीन मैन या हरियाली गुरू के नाम से भी जाना जाता है.

नाकाम कोशिश को बनाया सफल

एनबी सिंह की खास पहचान सेंट्रल यूनिवर्सिटी का प्रोफेसर होते हुए भी उनका साइकिल से चलना है. वह कैम्पस में दिन के उजाले और दोपहर की कड़ी धूप में फावड़ा चलाते भी मिल जाएंगे. कुछ साल पहले गार्डन इंचार्ज के पद पर उनकी नियुक्ति हुई थी तब कैम्पस की उजड़ी सूरत को देखकर कोई नहीं कह सकता था कि यह कभी बदलेगा. आज विवि में हर तरफ जितनी हरियाली है उसे खुद फावड़ा चलाकर एनबी सिंह हरा-भरा बनाया है.

62 साल की उम्र में युवा जोश

इस बारे में 62 वर्षीय प्रो. एनबी सिंह कहते हैं कि कोई भी काम अगर ठान लिया जाए तो मुश्किल नहीं है. बताते हैं कि वे साइकिल से चलते हैं, सामान्य जीवन जीते हैं. लेकिन ऐसा भी नहीं है कि आधुनिक दुनिया से उनका लगाव नहीं है. एनबी सिंह सोशल नेटवर्किंग के माध्यमों पर भी उतना ही एक्टिव रहते हैं. विवि के अच्छे काम को वह फेसबुक के जरिए सबके सामने लाते रहते हैं.

सांप पकड़ने वाले प्रोफेसर

बेहतर फिटनेस के साथ दिनभर अपने काम में डटे रहने वाले प्रो. सिंह को कैम्पस में सांप को पलक झपकते पकड़ लेने वाला प्रोफेसर भी कहा जाता है. वह अब तक सैकड़ों जहरीले सांप को पकड़कर छात्रों के जीवन पर आने वाले संकट को टाल चुके हैं.