अमरीकी केबल चैनल टीएलसी पर ये रियेलिटी शो दिखाया जाता है. टीएलसी के अनुसार शो में हिस्सा लेने वाले लोग अमरीका में हुए हमले के बारे में बात करना चाहते हैं.

ये रियेलिटी शो दिसंबर के महीने में उस समय सुर्खियों में आया था जब एक रूढ़ीवादी इसाई गुट 'फ़्लौरिडा फ़ैमिली एसोसियेशन' की अपील पर एक कंपनी ने इस रियेलिटी शो से अपना विज्ञापन वापस लेने का फ़ैसला किया था.

ईसाई गुट का आरोप है कि रियेलिटी शो के पीछे अमरीकी मूल्यों के विपरीत एक इस्लामी एजेंडा छिपा हुआ है. एक दूसरी कंपनी कायक डॉट कॉम ने भी अपना विज्ञापन वापस ले लिया है.

'ऑल-अमेरिकन मुस्लिम' नाम का ये रियेलिटी शो केबल चैनल टीएलसी पर हर रविवार की शाम को दिखाया जाता है. इसमें हिस्सा लेने वाले ज़्यादातर लोग मिशीगन के डेट्रॉएट शहर में रहते हैं जहां सबसे अधिक संख्या में अरबी मूल के अमरीकी रहते हैं. रियेलिटी शो की रिकॉर्डिंग उस वक़्त हुई थी जब अमरीका 9/11 हमलों की दसवीं वर्षगांठ मना रहा था.

टीएलसी चैनल के महाप्रबंधक एमी विंटर ने समाचार एजेंसी एपी को इस बारे में और जानकारी देते हुए कहा, ''आप इस शो में देखेंगे कि हमारे देश के इतिहास के एक निर्णायक क्षण में कैसे एक समुदाय अपनी भावनाओं को व्यक्त करता है.''

इस शो में हिस्सा लेने वाली एक महिला सुहैला अमीन कहती हैं, ''ऐसा पहली बार हुआ था जब मुझे एहसास हुआ कि लोग मुझे कम अमरीकी समझ रहे थे. एक ऐसे इंसान के लिए जो इसी देश में पैदा और पला-बढ़ा हो उसके लिए ये सब सहन करना बहुत मुश्किल था.''

इस शो में हिस्सा लेने वाले और दूसरे लोग भी अपने अनुभवों का ज़िक्र करते हैं कि कैसे उन्हें अपने समाज का बचाव करना पड़ा था एक ऐसी घटना के लिए जिससे उनका कोई लेना देना नहीं था.

इस रियेलिटी शो की पहली श्रंखला आठ जनवरी, 2012 को समाप्त होगी लेकिन चैनल ने अभी तक ये नहीं बताया है कि इसकी दूसरी श्रंखला भी होगी या नहीं.

International News inextlive from World News Desk