भारत बंद के नाम पर खुलेआम गुंडई, राह चलते लोगों से की गई मारपीट

patna@inext.co.in

PATNA: पटना में भारत बंद के नाम पर कुछ प्रदर्शनकारियों ने जमकर गुंडई दिखाई. राह चलते लोगों से मारपीट की गई. वे चीखते रहे, पुलिस मूकदर्शक बनी रही. करोड़ों की संपत्ति को तहस नहस कर जमकर खूनी खेल खेला गया. कहीं मरीज को पीटा गया तो कहीं आम इंसान पर दबंगों की लाठियां टूटी. राजधानी सहित पूरे राज्य में बंद के नाम पर खुलेआम गुंडई नहीं हुई हो. एक दो नहीं आधा दर्जन से अधिक लोगों की जान बंदी ने ले ली.

पप्पू समर्थकों की गुंडागर्दी

पटना, मुजफ्फरपुर, भागलपुर, गया, पूर्णिया जैसे प्रमुख शहरों के चौक-चौराहों पर बंद समर्थक सुबह से ही जबरन बाजार और यातायात बंद कराते रहे. ट्रेनों पर रोड़ेबाजी की गई और स्टेशन व रेल पटरियों पर जमकर तांडव मचाया गया. मुजफ्फरपुर शहर के अहियापुर में फाय¨रग हुई. वहीं, गरहां चौक पर एक मरीज की मौत हो गई, आरोप है कि बंद समर्थकों ने उसके साथ मारपीट की. जहानाबाद में भी जाम में फंसने से एक बीमार बच्ची की मौत हो गई. नवादा में तो बंद समर्थकों ने एसपी की गाड़ी को रोक दिया. प्रजातंत्र चौक पर बंद समर्थकों के साथ हुई झड़प में एक युवक का सिर फट गया. पुलिस ने लाठी चार्ज कर बंद समर्थकों को खदेड़ दिया. पूरे राज्य से 678 प्रदर्शनकारियों को गिरफ्तार किया गया है.

'भारत' ऐसे तो 'बंद' नहीं हो सकता

जन

जगह जगह पर पब्लिक को रोका गया. कई जगहों पर तो चलती कार के शीशे तक तोड़ दिए गए.

गण

डॉक्टर जैसे गणमान्य लोग हॉस्पिटल नहीं पहुंच पाए. कई ऑपरेशन टले. मरीज तड़पते रहे.

मन

पटना का हर इंसान सुबह से डरा हुआ था. स्कूल संचालकों ने बंद की घबराहट से अपने स्कूल बंद रखे.

आप बीती

धीरज नायक का इलाज आईजीआईएमएस में चल रहा है. उन्हें बैकबोन पेन है और वह हर दिन डॉक्टर रत्‍‌नेश चौधरी से फिजियोथेरेपी कराने जाते हैं. वह सोमवार को महेंद्रू से ऑटो से निकले. ऑटो आर्ट कॉलेज के पास पहुंचा ही था कि सामने से दो तीन स्कार्पियो सवार आए साथ में एक खुली जीप थी. जीप में पुलिस वाले भी थे. वह ऑटो के पास पहुंचते ही डंडा बरसाने लगे. बचाव मुझे काफी चोट आई है और हाथ भी टूट गया.

खुलेआम वाहनों का तोड़ा शीशा

पटना में जाप कार्यकर्ताओं ने जमकर गुंडई की है. डाकबंगला चौराहे पर घंटों आम लोगों के साथ गुंडई हुई लेकिन कोई देखने वाला नहीं था. यहां लगभग 3 घंटे तक बंद समर्थकों के गुंडाराज से चौराहा कांपता रहा. समर्थकों ने आम लोगों को पीटा और वाहन चालकों से भी मारपीट की. अशोक राजपथ और पटना विश्वविद्यालय में कफ्र्यू जैसे हालात रहे.

कार्यकर्ता भिड़े, हवाई फायरिंग

छपरा के सोनपुर में गौतम चौक पर कांग्रेस-राजद और भाजपा कार्यकर्ताओं की आपस में भिड़ंत हो गई. इसके बाद हालात उस वक्त बेकाबू हो गए जब दोनों तरफ से रोड़ेबाजी और चार-पांच राउंड हवाई फाय¨रग की गई. वहीं पटना में डाकबंगला चौराहा, इनकम टैक्स गोलंबर, अशोक राजपथ, पटना जंक्शन जैसे इलाके पूरी तरह से प्रदर्शनकारियों के क?जे में रहे.

मोदी जी कहते थे कि आकाश को धरती पर ला दूंगा, अब चुप क्यों हैं? उनके शासन में तो तेल की कीमतें ही आसमान पर पहुंच गई.

तेजस्वी यादव, नेता प्रतिपक्ष

मोदी जी और उनके नेता अहंकार में चूर हैं. लोकतंत्र में ऐरोगेंस का कोई स्थान नहीं, जनता अच्छे-अच्छों का घमंड चूर कर देती है.

डॉ. शकील अहमद, राष्ट्रीय प्रवक्ता कांग्रेस

बंद को जनता ने अपना व्यापक समर्थन देकर साबित कर दिया है कि देश में मोदी सरकार को लेकर काफी नाराजगी है.

देवेंद्र प्रसाद, बिहार अध्यक्ष समाजवादी पार्टी

राहुल गांधी जिस भारत बंद का नेतृत्व करने निकले थे, उसमें सिख मॉब लिंचिंग के मुख्य आरोपी कांग्रेस नेता सज्जन कुमार भी शामिल थे.

सुशील कुमार मोदी, उप मुख्यमंत्री