राष्ट्रद्रोह के बाद डकैती मामले में फंसे
पाटीदार अनामत आंदोलन समिति प्रमुख व पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दक पटेल के खिलाफ मेहसाना जिले में डकैती का केस दर्ज किया गया है। इसके बाद हार्दिक की मुश्किलें और बढ़ सकती हैं। इससे पहले पटेल आरक्षण आंदोलन की अगुवाई करने वाले हार्दिक पर तिरंगे के अपमान और राष्ट्रद्रोह के केस दर्ज हो चुका है।

सूरत पुलिस ने किया गिरफ्तार
हाल ही में उन्हें सूरत पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया। हजीरा पुलिस स्टेशन में चली आठ घंटे लंबी पूछताछ के बाद उन्हें कोर्ट में पेश किया गया। यहां से उन्हें शुक्रवार तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। हार्दिक पर लगे विद्रोह के चार्ज कथित तौर पर उनके तीन अक्टूबर के भड़कीले बयानों की वजह से लगे थे, जिनमें उन्होंने पाटीदारों को उकसाया कि वो आत्महत्या करने कि बजाय पुलिसवालों को मारें।

तीन और शिकायतें
मेहसाना जिले में हार्दिक के खिलाफ तीन और शिकायतें दर्ज हुई हैं। बेचराजी और मोढेरा में एक सार्वजनिक अधिसूचना का उल्लंघन करने में उनका हाथ बताया जा रहा है। विसनगर पुलिस ने एक डकैती के लिए जिन उपद्रवियों पर चार्ज लगाया है, उनका संबंध भी हार्दिक के साथ बताए जा रहा है। यह केस हार्दिक के खिलाफ 23 जुलाई को पाटीदार रैली के दौरान हई हिंसा को लेकर दर्ज किया गया है। विसनगर पुलिस इंस्पेक्टर एमएस वाघेला ने बताया कि हार्दिक और उनके समर्थक गुट ने मीडियाकर्मियों के कैमरे छीने और तोड़े। मेहसाना एसपी ने कहा कि हमारे पास हार्दिक को डकैती की धारा में गिरफ्तार करने के लिए पर्याप्त सबूत हैं। उन्होंने कहा कि हमने कस्टडी की मांग के लिए ट्रांसफर वॉरंट पहले ही संबंधित कोर्ट में जमा कर दिया है।

inextlive from India News Desk

National News inextlive from India News Desk