- अपने वार्ड के जलभराव वाले एरिया की देंगे नगर निगम को जानकारी

- संकरी गलियों में एंटी लार्वा का छिड़काव करने को खरीदीं 5 नई मशीन

BAREILLY:

लगातार हो रही बारिश से पूरे शहर में लोग जलभराव और गंदगी का दंश झेल रहे हैं. इसके साथ ही अब मच्छरों का प्रकोप बढ़ने से डेंगू और मलेरिया का खतरा भी बढ़ गया है. इससे निपटने के लिए नगर निगम के स्वास्थ्य विभाग ने कवायद तेज कर दी है. सभी वार्डो में जलभराव वाले एरिया की जानकारी देने के लिए पार्षदों को कहा गया है, जिससे नगर निगम की टीम भेजकर वहां एंटी लार्वा का छिड़काव कराया जा सके. संकरी गलियों में एंटी लार्वा का छिड़काव करने के लिए नगर निगम ने पांच छोटी मशीनें भी खरीद ली हैं.

अब गलियों में भी जाएगी टीम

नगर निगम में अभी तक एंटी लार्वा का छिड़काव करने के लिए केवल 2 मशीनें थीं. जिसमें 1 हजार लीटर दवा एक बार में आती है. मशीनें बड़ी होने के कारण इसे सिर्फ गाड़ी में रखकर ही उनसे छिड़काव कराया जा सकता था. बड़ी होने के कारण मशीन संकरी गलियों में नहीं पहुंच पाती थी. इसके चलते अब नगर निगम ने 5 छोटी मशीनों को भी मंगा लिया है. जिसमें 18 लीटर दवा एक बार में आती है. इसे कर्मचारी गले में लटकाकर संकरी गलियों में भी आसानी से एंटी लार्वा का छिड़काव कर सकेंगे.

पब्लिक भी कर सकती है शिकायत

नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि सभी पार्षदों को अपने वार्ड में जलभराव की समस्या बताने को अलर्ट कर दिया गया है. इसके अलावा यदि किसी इलाके में जलभराव की समस्या है और वहां नगर निगम की टीम नहीं पहुंची है तो वहां की पब्लिक नगर स्वास्थ्य अधिकारी के मोबाइल नंबर 7055519660 पर भी शिकायत कर सकती है.

टैमीफॉश से नष्ट होगा लार्वा

मच्छरों की समस्या का समाधान करने के लिए नगर निगम जलभराव वाले एरिया में एंटी लार्वा का छिड़काव करवा रहा है. लार्वा को नष्ट करने के लिए 'टैमीफॉश' दवा का छिड़काव किया जाता है. जबकि फॉगिंग करने के लिए 'मैलाथियॉन ईसी 50 परसेंट' दवा का यूज किया जाता है.

हर इंस्पेक्टर को मिलेगी 1 मशीन

डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि नगर निगम में 7 सफाई इंस्पेक्टर हैं. अभी तक दो मशीनें थीं लेकिन अब 5 छोटी मशीनों को और मंगाया गया है. जिससे सभी इंस्पेक्टर की निगरानी में एक-एक मशीन से एंटी लार्वा का छिड़काव कराया जाएगा.

शहर में डेंगू का खतरा नहीं बढ़े इसके लिए एंटी लार्वा का छिड़काव पूरे शहर में कराया जाएगा. इसके लिए नई मशीनें खरीद ली गई हैं और पार्षदों को भी सूचना देने के लिए अलर्ट कर दिया गया है.

डॉ. अशोक कुमार, नगर स्वास्थ्य अधिकारी