-तीन कमरे किए मांगकर भेज दिए चार सौ पुलिस कर्मी, अब अधिकारी स्कूलों पर झाड़ रहे रौब

-ग‌र्ल्स इंटर कॉलेज में सुरक्षाकर्मियों के ठहराने की व्यवस्था ने बढ़ाई दिक्कत

prayagraj@inext.co.in

PRAYAGRAJ: एक कहावत है, 'जबरा मारे, रोवे न दे.' कुछ ऐसा ही हाल शहर के उन स्कूलों का है, जहां पर कुंभ मेले में तैनाती के लिए बाहर से आई फोर्स रोकी गई है. फोर्स के रुकने का इंतजाम शहर के तीन ग‌र्ल्स इंटर कॉलेज में किया गया है. इससे होने वाली दिक्कतों के बारे में स्कूलों की ओर से जिला प्रशासन को पत्र भेजकर बताया भी गया है. लेकिन स्कूलों की समस्याओं को दूर करने के स्थान पर जिला प्रशासन की ओर से तीन कमरों में ठहरने के लिए करीब चार सौ पुलिस कर्मी एक स्कूल में भेज दिया. सिर्फ इतना ही नहीं, ऑब्जेक्शन करने पर प्रशासन के अफसर कह रहे हैं कि कमरा चाहिए तो चाहिए.

प्रतियोगी परीक्षाओं के लिए है सेंटर

शहर में कुंभ सुरक्षा के लिए आए पुरुष सुरक्षा कर्मियों को ठहरने के लिए आर्य कन्या ग‌र्ल्स इंटर कालेज, किदवई ग‌र्ल्स इंटर कालेज और क्रास्थ्रवेट ग‌र्ल्स इंटर कालेज में व्यवस्था की गई है. स्कूलों में यूपी बोर्ड के प्रैक्टिकल शुरू हो गए हैं. जबकि 5, 6, 12 जनवरी और 1, 2 फरवरी 2019 को उत्तर प्रदेश सरकार की विभागीय परीक्षाएं होनी है. इसके साथ इन स्कूलों में गृह परीक्षाएं भी इसी दौरान होनी हैं. ऐसे में बड़ी संख्या में सुरक्षाकर्मी के ठहरने से छात्राओं को कई तरह की मुसीबत उठानी पड़ रही है. इन स्कूल की प्रिंसिपल का कहना है कि विद्यालय में शौचायल भी छात्राओं व महिला टीचर्स के लिए है. उनको भी पुरुष सुरक्षाकर्मी प्रयोग करेंगे तो भी मुसीबत छात्राओं को होगी.

हर तरफ फैले हैं पुरुष कर्मचारी

किदवई ग‌र्ल्स इंटर कालेज की प्रिंसिपल अंजुम अफसा ने बताया कि जिला प्रशासन की ओर से भेजे गए पत्र में तीन कमरों की डिमांड की गई थी. अचानक से करीब चार सौ पुलिस कर्मियों को ठहरने के लिए भेज दिया गया. इस बारे में प्रिंसिपल की ओर से जिलाधिकारी को पत्र भेजा गया है. इसमें कहा गया है कि स्कूल में 2000 छात्राएं पढ़ती है. ऐसे में चार सौ कर्मचारियों को ठहरने के लिए भेजा गया है. तीन कमरों में चार सौ कर्मचारी नहीं ठहर सकते. पूरे स्कूल परिसर में कर्मचारी फैले हुए हैं, जिससे स्कूल में शिक्षण कार्य पूर्णतया बाधित हो रहा है.

महिलाकर्मी हों तो एडजस्ट भी कर लें

आर्य कन्या ग‌र्ल्स इंटर कॉलेज की प्रिंसिपल सुधा श्रीवास्तव ने बताया कि अभी उनके स्कूल में सुरक्षाकर्मी नहीं पहुंचे हैं. लेकिन प्रशासन की ओर से नोटिस चस्पा कर दी गई है. अगर महिला सुरक्षाकर्मी हो तो स्कूल छात्राएं एडजस्ट कर लेंगी. लेकिन ग‌र्ल्स स्कूल में पुरुष कर्मचारियों के ठहरने से हर तरह की दिक्कत छात्राओं को होगी.

वर्जन

पुरुष कर्मचारियों के कारण छात्राओं को कई तरह की दिक्कत हो रही है. पुरुष कर्मचारियों की संख्या इतनी अधिक है कि वह में पूरे स्कूल में फैले हैं.

अफसा अंजुम

प्रिंसिपल, किदवई ग‌र्ल्स इंटर कालेज

एक बार अगर महिला कर्मचारी हो, तो छात्राएं एडजस्ट भी कर लें. लेकिन पुरुष कर्मचारियों के लिए कारण हर तरह की मुसीबत छात्राओं को उठानी पड़ रही है.

सुधा श्रीवास्तव

प्रिंसिपल, आर्य कन्या ग‌र्ल्स इंटर कॉलेज