फ्लैग: चित्रकारी से खूबसूरत बनेंगी मेमू ट्रेनें

- बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस के तर्ज में एनसीआर जोन की मेमू ट्रेनों में भी बनेगी सुंदर कलाकृतियां

- मेमू के महिला कोचों से ही जाएगी इसकी शुरुआत , आर्टस के स्टूडेंट्स को दिया जाएगा मौका

kanpur@inext.co.in

kanpur. एनसीआर जोन की मेमू ट्रेनों को स्वच्छता का प्रतीक बनाने की तैयारी रेलवे कर रहा है. दरभंगा से चलने वाली बिहार संपर्क क्रांति एक्सप्रेस की तरह इन ट्रेनों में भी सुंदर कलाकृतियां बनाने की तैयारी चल रही है. रेलवे अधिकारियों के मुताबिक फिलहाल इस योजना का शुभारंभ मेमू ट्रेनों के महिला कोचों से किया जा रहा है. कोच सुंदर व आकर्षक दिखाई देने पर यात्री भी कोचों को साफ रखने में रेलवे की मदद करेंगे.

समाजसेवी व एनजीओ को जाेड़ा जाएगा

रेलवे अधिकारियों के मुताबिक कोचों में सुंदर कलाकृतियों को बनाने के लिए समाजसेवी संस्थाएं व एनजीओ से जुड़े आ‌र्ट्स स्टूडेंट्स से संपर्क कर उनको प्रतिभा दिखाने का मौका दिया जाएगा. स्टूडेंट्स वाशिंग लाइन में कोचों में अपनी पसंद की कलाकृति बना सकेंगे. अधिकारियों के मुताबिक स्टूडेंट्स को कोचों में कलाकृतियां बनाने के लिए रेलवे की तरफ से सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी.

12 जोड़ी मेमू ट्रेनें एनसीआर जोन में

एनसीआर सीपीआरओ गौरव कृष्ण बंसल के मुताबिक एनसीआर जोन के पास कुल 12 जोड़ी मेमू ट्रेनें विभिन्न रूटों में चलती है. योजना के प्रथम चरण में मेमू ट्रेनों के महिला कोचों से इसकी शुरुआत की जाएगी. जिसके बाद एक-एक कर के मेमू के सभी कोचों में कलाकृतियां बनाया जाएगा. जोकि अपनी ओर यात्रियों को आकर्षित करेंगी. अधिकारियों के मुताबिक एनसीआर जोन में मेमू के कुल 250 से अधिक कोच होंगे.

अक्टूबर से शुरू होगा काम

अधिकारियों के मुताबिक मेमू कोचों में कलाकृतियां बनाने का कार्य अक्टूबर माह से शुरू किए जाने की संभावना है. फिलहाल रेलवे समाजसेवी संस्थाओं व एनजीओ से संपर्क कर रही है. अधिकारियों के मुताबिक वेस्टन रेलवे इसमें काम कर चुकी है. उसी की तर्ज पर एनसीआर रेलवे ने भी मेमू कोचों का रंग रोगन करने की योजना बनाई है.

------

8 विभिन्न रूटों में चलती एनसीआर की मेमू ट्रेनें

12 जोड़ी ट्रेनें एनसीआर जोन में

130 से अधिक कोच एनसीआर जोन में

2 माह बाद शुरू किया जाएगा काम

--------

'' एनसीआर जोन की मेमू ट्रेनों को आकर्षक बनाने व ट्रेनों को साफ सुथरा रखने के लिए बिहार संपर्क क्रांति की तर्ज पर कलाकृतियां बनाने की प्लानिंग की है. जल्द इस पर कार्य शुरू होगा. ''

गौरव कृष्ण बंसल , सीपीआरओ एनसीआर