- ग्लोब चौक पर नो पार्किग में खड़ी थी महिला एएसपी की प्राइवेट कार

- ट्रैफिक पुलिस उठाकर ले गई कार, काट दिया चालान

- पीछे-पीछे महिला एएसपी भी पहुंच गई ऑफिस, एएसआई को जमकर लताड़ा

देहरादून, नो पार्किग में महिला एएसपी का चालान करना और कार उठाना ट्रैफिक पुलिस को भारी पड़ गया. कार उठाये जाने से नाराज महिला अफसर ट्रैफिक पुलिस के ऑफिस में ही आ धमकीं और कार उठाने वाले एएसआई को जमकर लताड़ा. एएसआई लगातार बताता रहा कि कार नो पार्किग में खड़ी थी, लेकिन महिला अफसर उसे ही ट्रैफिक का पाठ पढ़ाने लगीं. मजबूर होकर एएसआई ने माफी मांगी तो मैडम का गुस्सा कम हुआ.

यह है पूरा मामला

शनिवार को ट्रैफिक पुलिस रोज की तरह नो पार्किग में खड़े वाहनों को उठाने निकली. ग्लोब चौक के पास नो पार्किग जोन में एक निजी कार खड़ी देख ट्रैफिक की टीम उसे क्रेन के जरिए टो कर ट्रैफिक ऑफिस ले गई. ये कार विजिलेंस में तैनात एएसपी रेनू लोहानी की थी, जिसका रजिस्ट्रेशन नंबर यूके 07 बीएन 7911 है. एएसआई पवन कुमार ने कार ट्रैफिक ऑफिस पहुंचाई और उसका चालान कर दिया.

एएसपी ने खोया आपा

ट्रैफिक पुलिस द्वारा कार उठाने से तमतमाई एएसपी रेनू लोहानी भी पीछे-पीछे ट्रैफिक ऑफिस पहुंच गई. एएसपी को देख वहां मौजूद सिपाही भी चौंक गए. इसके बाद एएसपी ने कार उठाने वाले एएसआई पवन कुमार को बुलाया और उसे ट्रैफिक रूल्स का पाठ पढ़ाने लगीं. एएसआई ने उन्हें समझाने की कोशिश की कि उनकी कार नो पार्किग जोन में खड़ी थी इसलिए कार्रवाई की गई तो एएसपी अपना आपा खो बैठीं और एएसआई को धमकाने लगीं. एएसपी का गुस्सा देख एएसआई ने माफी मांगी और वहां से चला गया.

सीओ ट्रैफिक रह चुकी हैं रेनू

विजिलेंस में बतौर एएसपी तैनात रेनू लोहानी खुद सीओ ट्रैफिक भी रह चुकी हैं. लेकिन, जब नो पार्किग में खड़ी उनकी निजी कार का चालान हुआ तो वे सारे ट्रैफिक रूल भूल गईं.

खुद की मानी गलती

दैनिक जागरण आई नेक्स्ट से एएसपी रेनू लोहानी से जब इस पूरे मसले पर बात की तो वे एक बार फिर आवेश में आ गईं हालांकि बाद में उन्होंने अपनी गलती स्वीकार की और एएसआई पवन कुमार द्वारा की गई कार्रवाई को सही ठहराया.

-------------------

वाहन नो पार्किग में खड़ा था. सिपाही उसे उठाकर यातायात ऑफिस लाया. इसमें सिपाही की गलती नहीं है.

- रेनू लोहानी, एएसपी, विजिलेंस