PATNA:भाकपा माले नरेंद्र मोदी और भाजपा के विभाजनकारी नीतियों के खिलाफ जनादेश के लिए बिहार की जनता को धन्यवाद देती है. बिहार ने इस जनादेश के जरिए देश की भावनाओं को अभिव्यक्त किया है. इससे लोतंत्र के बचाव में चल रहे किसानों मजदूरों, बुद्धिजीवियों के आंदोलन को प्रेरणा मिलेगी. उक्त बातें प्रेस कांफ्रेंस में भाकपा माले के राज्य सचिव कुणाल ने कही. उन्होंने कहा कि भाजपा के खिलाफ आक्रोश इतना तीखा था कि महागठबंधन को मोहलत मिल गयी.

ख्भ् सालों से पूरी नहीं हुई कई उम्मीदें

कुणाल ने कहा कि जमीन, शिक्षा, सम्मानजनक रोजगार आदि के मुद्दे पर बिहार की जनता वर्षों से संघर्ष कर रही है. लेकिन दोनों भाइयों की सरकार ने ख्भ् सालों से अबतक इसका निदान नहीं किया है. उन्होंने कहा कि हम नीतीश कुमार और लालू प्रसाद दोनों से भागलपुर दंगा पीडि़तों से किए वादे का निभाने की मांग करते हैं. कुणाल ने इस दौरान कहा कि बिहार की जनता को इस लिए भी धन्यवाद देता हूं कि तीन सीट देकर हमें सदन पहुंचाया है. हमारी पुनर्वापसी हुई है. हमारा आंदोलन और तेज होगा.

मायने रखती है तरारी की जीत

कुणाल ने कहा कि तरारी विधानसभा की जीत हमारे लिए मायने रखती है. यहां गरीबों दलितों ने अपने हक अधिकार के लिए लंबी लड़ाई लड़ी है. इस बार गरीब दलित मेहनतकश समुदाय ने सामंतों से यह सीट छीन ली है. सम्मेलन के दौरान तरारी से निर्वाचित विधायक सुदामा प्रसाद और धीरेंद्र झा भी मौजूद थे.