- एसटीएफ ने लखनऊ से किया गिरफ्तार

- होटल, बार, रेस्टोरेंट के कर्मचारी भी शामिल

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW : देश के विभिन्न राज्यों में एटीएम कार्ड की क्लोनिंग एवं उनका डाटा हैक करके हजारों लोगों को लाखों रूपये की चपत लगाने वाले गैंग के मास्टरमाइंड को लखनऊ से गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार जालसाज सुमित झिंगरन वाराणसी का रहने वाला है. उसकी गिरफ्तारी के लिए पंजाब पुलिस ने एसटीएफ से मदद मांगी थी जिसके बाद उसे मंगलवार को हजरतगंज इलाके के एक आलीशान होटल से दबोच लिया गया. एसटीएफ के मुताबिक यह गैंग दिल्ली, पश्चिम बंगाल, मुंबई, हरियाणा, यूपी सहित तमाम राज्यों में सक्रिय था.

होटल के बाहर बुलाकर पकड़ा

पंजाब पुलिस के वांछित सुमित झिंगरन को पकड़ने की जिम्मेदारी एसएसपी एसटीएफ अभिषेक सिंह ने एएसपी प्रो. त्रिवेणी सिंह को दी. सर्विलांस से पता चला कि इस गैंग का मास्टरमांइड हजरतगंज थाना क्षेत्र स्थित एक होटल में ठहरा हुआ है. होटल के कर्मचारियों व अधिकारियों ने भी इसकी पुष्टि की जिसके बाद होटल के स्टाफ द्वारा सुमित को होटल के बाहर बुलाकर पूछताछ की गयी जहां उसने एटीएम कार्ड की क्लोनिंग व डाटा हैक करने की बात स्वीकार की. उसने बताया कि वर्ष 2013-2014 में येलो पेजेज कॉल सेंटर में काम करता था, जहां पर उसकी दोस्ती विक्की नाम के व्यक्ति से हुई जिसने उसको बताया कि कार्ड क्लोनिंग के लिए एक लैपटाप एवं रीडर डिवाइस की आवश्यकता होती है. इसके बाद उसने अनेक राज्यों में स्थित नामी गिरामी होटल, बार, रेस्टोरेंट मे कार्यरत वेटर व कर्मचारी से संपर्क कर उनको रीडर डिवाइस दी. जब भी कोई ग्राहक उक्त सुविधा का उपभोग करने के लिए अपना एटीएम कार्ड पेमेंट करने के लिए देता था तो वह कार्ड का डाटा स्कीमर से कैप्चर कर लेता था और एटीएम पिन को लिख लेता था. इसके बाद डेबिट व क्रेडिट कार्ड के अंतिम चार अंक व पासवर्ड नोट कर दो से ढाई हजार रूपये में प्रति कार्ड के हिसाब से प्राप्त कर लेते थे और कलेक्ट डाटा को फर्जी नाम व पते पर लिए गए बिग बाजार कार्ड, शॉपिंग सेंटरों के कार्ड एव्ा ब्लैंक कार्डो पर डाटा को बर्न कर एटीएम में जाकर धनराशि निकाल लेते थे.