- हमले में फॉरेस्ट रेंजर सहित चार घायल

- 2 नामजद और 25 अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज

हाल में ही विभाग ने खाली कराया था
lucknow@inext.co.in
LUCKNOW :
इटौंजा के उमरिया वन क्षेत्र में पौधरोपण का काम कर रहे वन कर्मियों पर ग्रामीणों ने हमला कर दिया. इस घटना में फारेस्ट रेंजर समेत चार कर्मचारी घायल हो गए. वन दरोगा का हाथ टूट गया. हमला करने वाले ग्रामीण वन विभाग की जमीन पर अवैध रूप से खेती करते थे, जिसे हाल में ही विभाग ने खाली कराया था.

ग्रामीणों ने किया हमला
इटौंजा के उमरिया वनक्षेत्र में पिछले तीन दिन से पेड़ लगाने का काम चल रहा है. शुक्रवार सुबह वहां मुसपिपरी के प्रधान के ससुर अमरकांत अवस्थी व उमरिया के जमालू सैकड़ों ग्रामीणों के साथ आए और वनकर्मियों पर हमला बोल दिया. हमले में प्रभारी बीकेटी रेंज वन दारोगा मनोज सिंह गौतम का हाथ टूट गया. इस दौरान वन रक्षक मुबारक अली, ड्राइवर कैलाश चंद्र और माली सीताराम को भी चोटें आई. ग्रामीणों ने वनकर्मियों को मौके से खदेड़ दिया. जान बचाकर भागे वनकर्मी इटौंजा थाने पहुंचे.

27 हेक्टेयर पर था ग्रामीणों का कब्जा
उमरिया वन क्षेत्र 250 हेक्टेयर क्षेत्र में फैला है. जिसमें 27 हेक्टेयर में उमरिया तथा मुसपिपरी के ग्रामीण कब्जा कर खेती करने लगे थे. वर्ष 2017 के अक्टूबर महीने में वन विभाग ने कब्जा हटवा दिया था.

तहरीर पर केस दर्ज
वनकर्मियों पर हमले और चोटिल होने की सूचना पर मुख्य वन संरक्षक लखनऊ मंडल के. प्रवीण राव, जिला वन अधिकारी मनोज सोनकर, क्षेत्राधिकारी बीकेटी प्रमोद सिंह और एसडीएम सूर्यकांत त्रिपाठी राजस्व टीम के साथ मौके पर पहुंचे. इटौंजा इंस्पेक्टर शिवशंकर सिंह ने बताया कि वन रक्षक मुबारक अली की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है.

प्रशासन ने किया था मना
इटौंजा के उमरिया हनुमंतपुर में जिस जमीन पर वन विभाग की टीम गढ्डे खुदवाने गई थी. इसको स्थानीय जिला प्रशासन ने मना किया था. ईद को ध्यान में रखते हुए बीकेटी तहसील प्रशासन ने वन विभाग टीम को दो दिन रुकने के लिए कहा था.

वन विभाग की जमीन पर खेती
एसडीएम बीकेटी सूर्यकांत त्रिपाठी के अनुसार गांव के जिस जमीन को लेकर वन विभाग की टीम और ग्रामीणों के बीच विवाद हुआ. उनके मुताबिक सात आठ बीघे खाली जमीन पर ऐसे ही कुछ गांव वाले खेती करते आ रहे हैं. इस मामले दो नामजद और 25 अज्ञात लोगों के खिलाफ स्थानीय थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है. घटना के चार घंटे बाद जब जिला प्रशासन की टीम मौके पर पहुंची तो पुलिस भी वहां गई.