सीबीएसई ने इस साल 1 जनवरी 2019 तक मांगा अटेंडेंस रिकॉर्ड, 75 प्रतिशत अटेंडेंस जरूरी

किसी भी तरह की एप्लीकेशन सब्मिट करने के लिए सीबीएसई ने 15 जनवरी बनाई डेडलाइन

>Meerut. सीबीएसई स्कूल में पढ़ रहे 10वीं और 12वीं के स्टूडेंट्स को 1 जनवरी तक अपनी 75 प्रतिशत अटेंडेंस पूरी करनी होगी. जिसके तहत एक जनवरी तक बोर्ड ने स्कूलों से स्टूडेंट्स की अटेंडेंस रिपोर्ट मांगी है. इस निर्देश के मुताबिक अगर किसी स्टूडेंट की अटेंडेस कम रह जाती है तो सीबीएसई उसके एग्जाम देने पर रोक लगा सकती है. इसके अलावा सीबीएसई ने ये भी निर्देश जारी किए हैं कि 15 जनवरी के बाद किसी तरह के एप्लीकेशन पर गौर नहीं किया जाएगा.

इसलिए हुआ बदलाव

इस साल दिल्ली हाईकोर्ट ने सीबीएसई को आदेश दिया था कि दिल्ली यूनिवर्सिटी में एडमिशन प्रोसेस शुरू होने से पहले एग्जाम, रिजल्ट और रि-चेकिंग के प्रोसेस को खत्म कर लें. ऐसे में सीबीएसई को डीयू एडमिशन से पहले ही रिजल्ट जारी करना होगा. जिसके चलते सीबीएसई ने स्कूलों को 1 जनवरी तक स्टूडेंट्स की अटेंडेंस रिपोर्ट भेजने के लिए कहा हैं. वहीं इस बार फरवरी में ही सीबीएसई एग्जाम शुरू होने की भी संभावनाएं हैं.

15 दिन हुए कम

सीबीएसई के इस निर्देश के बाद अटेंडेंस पूरी करने के लिए करीब 15 दिन कम हो गए हैं. जिससे स्टूडेंट्स की समस्या बढ़ सकती है. वहीं सीबीएसई ने पासिंग मा‌र्क्स में भी बदलाव किया है. बोर्ड परीक्षाओं में थ्योरी और प्रैक्टिकल दोनों को मिलाकर 33 फीसदी नंबर पाने वाले स्टूडेंट्स को पास माना जाएगा. इससे पहले स्टूडेंट्स को थ्योरी और प्रैक्टिकल दोनों में अलग-अलग न्यूनतम अंक लाकर पास होना होता था.

-----------------------

सीबीएसई की नई गाइडलाइन के मुताबिक हमारे यहां स्कूल में स्टूडेंट्स की अटेंडेंट्स पूरी हो गई है.

सतीश शर्मा, प्रिंसिपल, शांति पब्लिक स्कूल

बोर्ड एग्जाम से दो महीने पहले ही बच्चों की अटेंडेंस पूरी कर ली जाती है. समय से रिजल्ट जारी होने का फायदा भी बच्चों को ही मिलेगा.

चंद्रलेखा जैन, प्रिंसिपल, सेंट जोंस सीनियर सेकेंडरी स्कूल