मुंबई(ब्यूरो)। फिल्ममेकर राकेश ओमप्रकाश मेहरा के साथ कब से जुड़े हैं?
'अक्स' के समय से। उस समय मेरी गर्लफ्रेंड (अब पत्नी) राकेश जी के साथ काम कर रही थीं। उनके जरिए राकेश जी से जुड़ना हुआ। तब मेरा एडवरटाइजिंग का काम भी चल रहा था। फिर 'रंग दे बसंती' में मैंने बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर, एडिटर काम किया। एडवरटाइजिंग की वजह से मुझे ऑडियंस को समझने में मदद मिली। 

निर्देशन में कब आने की सोची थी? 
'रंग दे बसंती' के बाद राकेश जी ने कहा कि मुझे निर्देशन में आना चाहिए। उससे पहले मेरा लक्ष्य निर्देशन की बजाय एडिटिंग में आने का था। मुझे एडिटिंग से खास लगाव है। 'फन्ने खां' की एडिटिंग करने के लिए समय की कमी थी। लिहाजा उसकी एडिटिंग मोनीषा बलदावा ने की है। मनीषा ने बतौर एडिटर इससे पहले नीरजा और मॉम की है। दोनों फिल्में बेहतरीन थीं। मुझे उनका काम बेहद पसंद है। उन्होंने 'फन्ने खां' की उम्दा एडिटिंग की है। 

'फन्ने खां' का सफर कैसे शुरू हुआ? 
उसकी जर्नी राकेश जी के एक फोन कॉल से आरंभ हुई। फिर स्क्रिप्ट। राइटिंग की प्रक्रिया शुरू हुई। स्टोरी का आइडिया बेल्जियम की फिल्म 'एवरीबडीज फेमस' से लिया गया है। 'फन्ने खां' उसका आधिकारिक रीमेक है। राकेश जी को उसकी कहानी भा गई थी। उन्होंने उसके अधिकार खरीदे। मैंने स्टोरी के आधार पर ही किरदारों को बुना। हालांकि हमारे किरदार अलग हैं। बाप-बेटी की कहानी कायम है। चार्ली चैपलिन ने एक बात कही थी। उसका सार यह था कि मेरी जिंदगी में मुश्किलें काफी हैं। हालांकि यह बात मेरे होंठ नहीं जानते हैं। वह हर मुश्किल में मुस्कुराते रहते हैं। यही अनिल के किरदार का शुरुआती प्वाइंट था। हमने कहानी को विकसित करना आरंभ किया। डायलॉग राइटर हुसैन दलाल हमारे साथ जुड़े। 

अनिल कपूर की पहली प्रतिक्रिया क्या रही? 
अनिल जी को बहुत पसंद आया था। वह खुद को किरदार से रिलेट कर पाए थे। वह खुद मुंबई के चेंबूर इलाके से आते हैं। वहीं पले-बढ़े। उन्होंने आम आदमी का किरदार 'तेजाब', 'मशाल', 'ईश्वर' जैसी फिल्मों में बखूबी निभाया था। 'फन्ने खां' में अनिल के किरदार का नाम प्रशांत शर्मा है। उन्होंने ट्रंपेड बजाया। उसके लिए काफी अभ्यास किया। फिल्म में ट्रंपेड को मैंने ही चुना था। मैं बचपन में आर्केस्ट्रा में गिटार, सेक्सोफोन और ट्रंपेड वगैरह देखता था। ट्रंपेड बहुत साधारण वाद्ययंत्र है। उसका संगीत आपके दिल को छूता है। यही वजह है कि फिल्म में उसे रखा। संगीतकार अमित त्रिवेदी को भी यह आइडिया पसंद आया था। पिछली सदी के नौवें दशक का आर्केस्ट्रा कैसा होता था, मैंने उसे देखा है। हालांकि उससे जुड़े लोगों की जिंदगी कभी एक्सप्लोर नहीं की। एक सवाल हमेशा से मेरे जेहन में था कि उस दौर के आर्केस्ट्रा सिंगर अब कहां होंगे? क्या कर रहे होंगे? उम्रदराज हो चुके होंगे? उसका जवाब ही मैंने 'फन्ने खां' में देने का प्रयास किया है। 
ऐश्वर्या राय बच्चन को फिल्म में लेने का आइडिया किसका था? 
राकेश ओमप्रकाश समेत सभी उन्हें बेबी के किरदार में देखना चाहते थे। जब हम बेबी सिंह का किरदार लिख रहे थे तो पहली लाइन थी कि देश की सबसे खूबसूरत लड़की। यह लिखते ही ऐश्वर्या का नाम ही जेहन में आया। 

'सीक्रेट सुपरस्टार' से तुलना होने की भी आंशका है?
तुलना नहीं होनी चाहिए। ट्रेलर देखने के बाद किसी ने तुलना नहीं की। फिल्म में छह अहम किरदार है। उसमें एक टीनएज लड़की है। वह सिंगर बनना चाहती है। 'सीक्रेट सुपरस्टार' में भी बच्ची गायिका बनना चाहती है। यही एक समानता है। बाकी कहानी बिल्कुल अलग है। 
स्मिता श्रीवास्तव। 



मुंबई(ब्यूरो)। फिल्ममेकर राकेश ओमप्रकाश मेहरा के साथ कब से जुड़े हैं?

'अक्स' के समय से। उस समय मेरी गर्लफ्रेंड (अब पत्नी) राकेश जी के साथ काम कर रही थीं। उनके जरिए राकेश जी से जुड़ना हुआ। तब मेरा एडवरटाइजिंग का काम भी चल रहा था। फिर 'रंग दे बसंती' में मैंने बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर, एडिटर काम किया। एडवरटाइजिंग की वजह से मुझे ऑडियंस को समझने में मदद मिली। 

निर्देशन में कब आने की सोची थी? 

'रंग दे बसंती' के बाद राकेश जी ने कहा कि मुझे निर्देशन में आना चाहिए। उससे पहले मेरा लक्ष्य निर्देशन की बजाय एडिटिंग में आने का था। मुझे एडिटिंग से खास लगाव है। 'फन्ने खां' की एडिटिंग करने के लिए समय की कमी थी। लिहाजा उसकी एडिटिंग मोनीषा बलदावा ने की है। मनीषा ने बतौर एडिटर इससे पहले नीरजा और मॉम की है। दोनों फिल्में बेहतरीन थीं। मुझे उनका काम बेहद पसंद है। उन्होंने 'फन्ने खां' की उम्दा एडिटिंग की है। 

फन्ने खां में ऐश्वर्या को बेबी बनाने की ये है खास वजह

'फन्ने खां' का सफर कैसे शुरू हुआ? 

उसकी जर्नी राकेश जी के एक फोन कॉल से आरंभ हुई। फिर स्क्रिप्ट। राइटिंग की प्रक्रिया शुरू हुई। स्टोरी का आइडिया बेल्जियम की फिल्म 'एवरीबडीज फेमस' से लिया गया है। 'फन्ने खां' उसका आधिकारिक रीमेक है। राकेश जी को उसकी कहानी भा गई थी। उन्होंने उसके अधिकार खरीदे। मैंने स्टोरी के आधार पर ही किरदारों को बुना। हालांकि हमारे किरदार अलग हैं। बाप-बेटी की कहानी कायम है। चार्ली चैपलिन ने एक बात कही थी। उसका सार यह था कि मेरी जिंदगी में मुश्किलें काफी हैं। हालांकि यह बात मेरे होंठ नहीं जानते हैं। वह हर मुश्किल में मुस्कुराते रहते हैं। यही अनिल के किरदार का शुरुआती प्वाइंट था। हमने कहानी को विकसित करना आरंभ किया। डायलॉग राइटर हुसैन दलाल हमारे साथ जुड़े। 

अनिल कपूर की पहली प्रतिक्रिया क्या रही? 

अनिल जी को बहुत पसंद आया था। वह खुद को किरदार से रिलेट कर पाए थे। वह खुद मुंबई के चेंबूर इलाके से आते हैं। वहीं पले-बढ़े। उन्होंने आम आदमी का किरदार 'तेजाब', 'मशाल', 'ईश्वर' जैसी फिल्मों में बखूबी निभाया था। 'फन्ने खां' में अनिल के किरदार का नाम प्रशांत शर्मा है। उन्होंने ट्रंपेड बजाया। उसके लिए काफी अभ्यास किया। फिल्म में ट्रंपेड को मैंने ही चुना था। मैं बचपन में आर्केस्ट्रा में गिटार, सेक्सोफोन और ट्रंपेड वगैरह देखता था। ट्रंपेड बहुत साधारण वाद्ययंत्र है। उसका संगीत आपके दिल को छूता है। यही वजह है कि फिल्म में उसे रखा। संगीतकार अमित त्रिवेदी को भी यह आइडिया पसंद आया था। पिछली सदी के नौवें दशक का आर्केस्ट्रा कैसा होता था, मैंने उसे देखा है। हालांकि उससे जुड़े लोगों की जिंदगी कभी एक्सप्लोर नहीं की। एक सवाल हमेशा से मेरे जेहन में था कि उस दौर के आर्केस्ट्रा सिंगर अब कहां होंगे? क्या कर रहे होंगे? उम्रदराज हो चुके होंगे? उसका जवाब ही मैंने 'फन्ने खां' में देने का प्रयास किया है। 

ऐश्वर्या राय बच्चन को फिल्म में लेने का आइडिया किसका था? 

फन्ने खां में ऐश्वर्या को बेबी बनाने की ये है खास वजह

राकेश ओमप्रकाश समेत सभी उन्हें बेबी के किरदार में देखना चाहते थे। जब हम बेबी सिंह का किरदार लिख रहे थे तो पहली लाइन थी कि देश की सबसे खूबसूरत लड़की। यह लिखते ही ऐश्वर्या का नाम ही जेहन में आया। 

'सीक्रेट सुपरस्टार' से तुलना होने की भी आंशका है?

तुलना नहीं होनी चाहिए। ट्रेलर देखने के बाद किसी ने तुलना नहीं की। फिल्म में छह अहम किरदार है। उसमें एक टीनएज लड़की है। वह सिंगर बनना चाहती है। 'सीक्रेट सुपरस्टार' में भी बच्ची गायिका बनना चाहती है। यही एक समानता है। बाकी कहानी बिल्कुल अलग है। 

स्मिता श्रीवास्तव

ये भी पढ़ें: 'मुन्ना भाई' संग बनेगी विद्या बालन की जोड़ी!

Bollywood News inextlive from Bollywood News Desk