-एनुअल एग्जाम की ऑफिसियल घोषणा

- 55 हजार छात्रों की परीक्षा का खाका तैयार

-यूनिवर्सिटी, कॉलेज एवं महिलाओं के लिए अलग होगा फ्लाइंग स्क्वाड

<-एनुअल एग्जाम की ऑफिसियल घोषणा

- भ्भ् हजार छात्रों की परीक्षा का खाका तैयार

-यूनिवर्सिटी, कॉलेज एवं महिलाओं के लिए अलग होगा फ्लाइंग स्क्वाड

allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: allahabad@inext.co.in

ALLAHABAD: इलाहाबाद यूनिवर्सिटी ने फ्राइडे को सेशन 2013-14 के एनुअल एग्जाम का बिगुल बजा दिया. यूनिवर्सिटी, कॉलेज एवं करेस्पांडेंस कोर्स के अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट एग्जाम के 55,046 परीक्षार्थियों का एग्जाम 11 मार्च से शुरू होकर आठ मई तक चलेगा. करीब दो माह तक चलने वाली इन परीक्षाओं के लिए यूनिवर्सिटी, कॉलेज एवं करेस्पांडेंस में कुल 69 एग्जामिनेशन सेंटर बनाए गए हैं. सभी परीक्षाएं दो पाली में सुबह सात से दस एवं दोपहर ढाई से शाम साढ़े पांच बजे के बीच होंगी. ये जानकारी प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एग्जामिनेशन कंट्रोलर प्रो. एचएस उपाध्याय ने दी. उन्होंने बताया कि परीक्षा में 250 कक्ष निरीक्षक लगाए जाएंगे. हर रोज यूनिवर्सिटी और कालेजेज को मिलाकर दस हजार छात्र परीक्षा देंगे.

<इलाहाबाद यूनिवर्सिटी ने फ्राइडे को सेशन ख्0क्फ्-क्ब् के एनुअल एग्जाम का बिगुल बजा दिया. यूनिवर्सिटी, कॉलेज एवं करेस्पांडेंस कोर्स के अंडर ग्रेजुएट और पोस्ट ग्रेजुएट एग्जाम के भ्भ्,0ब्म् परीक्षार्थियों का एग्जाम क्क् मार्च से शुरू होकर आठ मई तक चलेगा. करीब दो माह तक चलने वाली इन परीक्षाओं के लिए यूनिवर्सिटी, कॉलेज एवं करेस्पांडेंस में कुल म्9 एग्जामिनेशन सेंटर बनाए गए हैं. सभी परीक्षाएं दो पाली में सुबह सात से दस एवं दोपहर ढाई से शाम साढ़े पांच बजे के बीच होंगी. ये जानकारी प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एग्जामिनेशन कंट्रोलर प्रो. एचएस उपाध्याय ने दी. उन्होंने बताया कि परीक्षा में ख्भ्0 कक्ष निरीक्षक लगाए जाएंगे. हर रोज यूनिवर्सिटी और कालेजेज को मिलाकर दस हजार छात्र परीक्षा देंगे.

मिलेगी केवल 'ए' उत्तर पुस्तिका

परीक्षा के दौरान इलेक्ट्रानिक सामान जैसे मोबाइल, पेजर, कैलकुलेटर आदि पूरी तरह से प्रतिबन्धित रखा गया है. परीक्षार्थियों से कहा गया है कि वे उत्तर पुस्तिकाओं पर पूरा विवरण दर्ज करें. डिफेंस स्टडीज, स्टैटिस्टिक्स, मैथ, कम्प्यूटर साइंस, साइकोलॉजी, फोटोग्राफी तथा साइंस कैटेगरी के परीक्षार्थियों को केवल 'ए' उत्तर पुस्तिका ही दी जाएगी.

डीन व डीएसडब्ल्यू की टीम रखेगी निगाह

सभी जगहों पर सकुशल परीक्षा सम्पन्न कराए जाने के लिए फ्लाइंग स्कवाड गठित कर दिया गया है. छात्राओं की चेकिंग के लिए अलग से व्यवस्था की गई है. इसके अलावा फैकेल्टी के डीन एवं डीएसडब्ल्यू की भी एक टीम बनाई गई है. जिसका कार्य होगा कि वो समय समय पर परीक्षा का पर्यवेक्षण करे और आवश्यक सुझाव परीक्षा नियंत्रक को सौंपे.

<मिलेगी केवल 'ए' उत्तर पुस्तिका

परीक्षा के दौरान इलेक्ट्रानिक सामान जैसे मोबाइल, पेजर, कैलकुलेटर आदि पूरी तरह से प्रतिबन्धित रखा गया है. परीक्षार्थियों से कहा गया है कि वे उत्तर पुस्तिकाओं पर पूरा विवरण दर्ज करें. डिफेंस स्टडीज, स्टैटिस्टिक्स, मैथ, कम्प्यूटर साइंस, साइकोलॉजी, फोटोग्राफी तथा साइंस कैटेगरी के परीक्षार्थियों को केवल 'ए' उत्तर पुस्तिका ही दी जाएगी.

डीन व डीएसडब्ल्यू की टीम रखेगी निगाह

सभी जगहों पर सकुशल परीक्षा सम्पन्न कराए जाने के लिए फ्लाइंग स्कवाड गठित कर दिया गया है. छात्राओं की चेकिंग के लिए अलग से व्यवस्था की गई है. इसके अलावा फैकेल्टी के डीन एवं डीएसडब्ल्यू की भी एक टीम बनाई गई है. जिसका कार्य होगा कि वो समय समय पर परीक्षा का पर्यवेक्षण करे और आवश्यक सुझाव परीक्षा नियंत्रक को सौंपे.

रैंडम चेकिंग पर परीक्षा समिति की मुहर

परीक्षा नियंत्रक ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि करेंट सेशन की परीक्षाओं में मूल्यांकन प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के लिए बड़ा कदम उठाया गया है. उन्होंने बताया कि उत्तर पुस्तिकाओं में कोई अशुद्धि न रह जाए. इसके लिए प्रत्येक विषय की 20 परसेंट उत्तर पुस्तिकाओं की रैंडम चेकिंग की जाएगी. जिसमें कॉपी के अन्दर दिए गए नम्बर और कुल प्राप्तांक के जोड़ को क्रास चेक किया जाएगा. यह निर्णय परीक्षा समिति का है.

<रैंडम चेकिंग पर परीक्षा समिति की मुहर

परीक्षा नियंत्रक ने पत्रकारों को जानकारी देते हुए बताया कि करेंट सेशन की परीक्षाओं में मूल्यांकन प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के लिए बड़ा कदम उठाया गया है. उन्होंने बताया कि उत्तर पुस्तिकाओं में कोई अशुद्धि न रह जाए. इसके लिए प्रत्येक विषय की ख्0 परसेंट उत्तर पुस्तिकाओं की रैंडम चेकिंग की जाएगी. जिसमें कॉपी के अन्दर दिए गए नम्बर और कुल प्राप्तांक के जोड़ को क्रास चेक किया जाएगा. यह निर्णय परीक्षा समिति का है.

फैक्ट फाइल

- ख्0 से ख्भ् प्रतिशत उत्तर पुस्तिकाओं की होगी रैंडम चेकिंग

- क्क् मार्च से शुरू होंगे एनुअल एग्जाम्स

- यूजी में ब्9,9म्9 एवं पीजी में होंगे भ्077 छात्र

- यूजी के लिए ख्म् एवं पीजी के लिए होंगे ब्फ् परीक्षा केन्द्र

- फ‌र्स्ट मीटिंग की परीक्षा मार्निग में सात से दस एवं सेकेंड मीटिंग की परीक्षा दिन में ढाई से साढे़ पांच बजे के बीच होगी.

- परीक्षा कक्ष में प्रतिबन्धित सामानों के प्रयोग पर होगी अनुशासनात्मक कार्रवाई.

- टीचर्स एवं इम्प्लाईज की लगाई जाएगी ड्यूटी

- उत्तर पुस्तिका पर एनरोलमेंट एवं रोल नम्बर भरना होगा जरूरी.

- विज्ञान एवं वाणिज्य संवर्ग के विषयों की परीक्षा में बी उत्तरपुस्तिका नहीं दी जाएगी.

- टीचर, ऑफिसर एवं विजिटिंग फैकेल्टी होंगे उड़नदस्ते के सदस्य.

- फ्लाइंग स्कवाड की एक टीम एयू तथा दो टीम कालेजेज का निरीक्षण करेगी.

- छात्राओं की चेकिंग के लिए अलग से महिला उड़न दस्ता होगा.

शामिल होंगे नए तरह के सवाल

अगर सबकुछ योजना के मुताबिक रहा तो इलाहाबाद यूनिवर्सिटी नेक्स्ट सेशन से परीक्षाओं में सुधार को दृष्टिगत रखते हुए एक और बड़ा कदम उठा लेगी. परीक्षा नियंत्रक ने बताया कि नकल पर रोक लगाने के लिए सभी विषयों के प्रश्न पत्रों में ऐसे क्वेश्चन को शामिल करने पर बल दिया जाएगा जोकि बुद्धि पर आधारित हों. उन्होंने कहा कि अभी छात्रों को क्वेश्चन का उत्तर किताबों में मिल जाता है. जिसके चलते उन्हें नकल पर्ची को तैयार करने में सुविधा होती है. लेकिन इस कांसेप्ट के आ जाने के बाद नकल पर तो रोक लगेगी ही साथ ही परीक्षार्थियों की बुद्धि क्षमता का परीक्षण भी होगा. इसके लिए सीनियर प्रोफेसर्स के अंडर में रिव्यू कमेटी का गठन कर दिया गया है. हालांकि अभी आन पेपर कुछ भी नहीं है और इस पर केवल विचार ही चल रहा है. ऐसे में फ्यूचर में यह तय होगा कि संभावित योजना का स्वरूप क्या होगा.