रांची : रांची में बुधवार की देर रात पिता के न पहुंचने पर स्टेशन जाने के लिए अकेले निकल पड़ी ओडिशा की एक नाबालिग लड़की की अस्मत लूटते लूटते बची। रास्ता भटकी 16 साल की लड़की को देख एक ऑटो चालक की नियत डोल गई। लड़की के कहने पर स्टेशन पहुंचाने को राजी हुआ चालक उसे वहां न ले जाकर सुनसान स्थान पर ले गया और वहां उसने उसके साथ दरिंदगी करने की कोशिश की। यह तो अच्छा रहा कि स्थानीय लोगों को इसकी भनक लग गई जिससे लड़की की इज्जत तार तार होने से बच गई। इस बीच लोगों ने भाग रहे आरोपी चालक का पीछा भी किया लेकिन वह भागने में कामयाब रहा। पीडि़त लड़की ओडि़शा के राउरकेला की रहने वाली है। वह रांची के चेशायर होम रोड के एक घर में नौकरानी का काम करती थी। बुधवार रात उसके पिता उसे लेने के लिए रांची आने वाले थे। पिता के नहीं पहुंचने पर वह रात में ही अपना बैग लेकर घर जाने के लिए निकली थी तभी उसके साथ यह घटना घटी।

कोई तो बचा लो, एक की हिम्मत

घटना से पहले चालक पीडि़त लड़की को गितिल कोचा मैदान के पास ले गया और उससे कहा कि यहीं बैठी रहो। रात करीब दो बजे ऑटो चालक ने नाबालिग के साथ जबरदस्ती की। इस पर पीडि़ता किसी तरह चालक को धक्का देकर ऑटो से उतरी और भागने लगी। इस पर ऑटो चालक ने पीछा किया। भागती हुई लड़की गितिल कोचा के घरों का दरवाजा पीटने लगी। बचाओ-बचाओ की आवाज सुन अंदर सो रहे लोग बाहर निकल आये। यह देख ऑटो चालक दूर में ही रुक गया। इस बीच इलाके में टेंट हाउस कर्मी मनोज नाम के युवक ने हिम्मत दिखाई। लोगों को साथ लेकर ड्राइवर को पकड़ने के लिए दौड़ाया लेकिन वह नाबालिग का बैग फेंककर भाग निकला।

पुलिस चालक की कर रही तलाश

इसके बाद मनोज ने लड़की को सुरक्षित रखा और उससे पूरी आपबीती सुनने के बाद सदर थाने की पुलिस को इस घटना से अवगत कराया। जिसके बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने छानबीन की लेकिन ऑटो चालक का कोई सुराग नहीं मिला। पुलिस ने परिजनों को भी जानकारी दी। सदर थानेदार वेंकटेशन कुमार ने कहा कि घटना की जानकारी मिलने के बाद ऑटो चालक की तलाश की जा रही है।

अकेली निकलना बना मुसीबत

नाबालिग से स्थानीय लोगों ने जब पूछताछ की तो उसने बताया कि पिता उसे लेने के लिए आने वाले थे। वह नहीं पहुंचे तो ओडि़शा जाने के लिए निकली। पिता मुर्गा का व्यवसाय करते हैं। अकेली निकलने की वजह से वह भटक गई थी। इसी बीच ऑटो चालक के चंगुल में फंस गई