-ऑटो ड्राइवर्स खुलेआम काट रहे जेब

-खुलेआम वसूल रहे मनमाना किराया

varanasi@inext.co.in

VARANASI

ऑटो रिक्शा का किराया लोगों की जेब पर भारी पड़ रहा है. यही नहीं ड्राइवर्स की मनमानी भी कम नहीं है. इसके चलते आए दिन किराये को लेकर होने वाली किचकिच आम बात हो गयी है. संबंधित विभाग इस पर रोक लगाने की बजाय कान में तेल डाले पड़े हुए हैं. स्थिति यह हो गयी है कि ऑटो का किराया अधिक और हवाई जहाज का किराया उससे कम पड़ रहा है. लोग जितना किराया फ्लाइट से मेट्रो सिटीज पहुंचने पर खर्च कर रहे हैं उससे कहीं ज्यादा आटो का किराया दे दे रहे हैं.

कोई नहीं सुनता मनमानी

ऑटो में होने वाली ओवर रेटिंग की कम्प्लेन आए दिन की बात है. शायद ही कोई दिन होगा जब ओवर रेटिंग की कम्प्लेन संबंधित विभाग में न पहुंचती हो. लेकिन इसे कोई सुनने वाला नहीं है. खुलेआम ऑटो ड्राइवर लोगों से मनमाना किराया वसूल रहे हैं. इसके लिए किचकिच भी हो रहा है. पुलिस तक मामला पहुंच जा रहा है. खास बात यह कि कई बार शहर में ऑटो का किराया फिक्स हुआ, पर इसे कोई मानता ही नहीं है.

ऑटो से कम फ्लाइट का फेयर

यदि दो लोग ऑटो रिक्शा में 10 रुपए प्रति किमी की दर से किराया देते हैं तो प्रति व्यक्ति के हिसाब से 5 रुपए प्रति किमी का भार पड़ता है, लेकिन जब आप फ्लाइट से सफर करते हैं तो आपको केवल चार रुपए प्रति किमी ही देना पड़ता है. पिछले दिनों यह जानकारी खुद सेंट्रल एविएशन स्टेट मिनिस्टर जयंत सिन्हा ने एक प्रोग्राम के दौरान दी थी.

रेट लिस्ट नहीं हुआ रिवाइज

सिटी में ऑटो रिक्शा का फेयर तय करने के लिए दो साल पहले रेट लिस्ट जारी हुआ था. आरटीओ और ऑटो रिक्शा यूनियन सहित प्रशासनिक अधिकारियों की मौजूदगी में नया किराया तय हुआ था. इसके बाद से उस रेट लिस्ट में कोई रिवाइज नहीं किया जा सका. अब जब मनमानी बढ़ गयी है तो एक बार फिर इसपर विचार किया जाना चाहिए.

एक नजर मनमना रेट पर

-कैंट- लंका 20 रुपये

-कैंट- मैदागिन 15 से 20 रुपये

-कैंट- पाण्डेयपुर 15 से 20 रुपये

-कैंट- गोदौलिया 15 से अधिकतम 30 रुपये

-कैंट- सारनाथ 15 से 25 रुपये

-कैंट-बेनियाबाग 15 से 20 रुपये

-कैंट से मंडुवाडीह 20 रुपये

वर्जन

ऑटो का किराया शासन स्तर पर तय किया जाता है. फिलहाल पुराने रेट लिस्ट पर ही किराया वसूलने का आर्डर है. रही बात मनमानी की तो कम्प्लेन मिलने पर कार्रवाई होगी.

आरपी द्विवेदी, आरटीओ