- पश्चिम बंगाल से लखनऊ जंक्शन सफर के दौरान दंपती का छूटा था बैग

- कंट्रोल रूम की सूचना पर बरेली जंक्शन पर खोजा, एक लाख का था सामान

बरेली : कोलकाता से अमृतसर जाने वाली अकाल तख्त एक्सप्रेस के एसी कोच (ए-1) में वेडनसडे को पश्चिम बंगाल निवासी माधवी मंडल और उनके पति सफर कर रहे थे। देर रात लखनऊ जंक्शन पर उतरे तो करीब एक लाख रुपए नकदी से भरा पर्स ट्रेन में ही भूल गए। जानकारी पर जीआरपी ने सूचना कंट्रोल रूम को दी। चूंकि ट्रेन बरेली जंक्शन पर ही रुकनी थी, ऐसे में सूचना जंक्शन जीआरपी के पास पहुंची। थर्सडे सुबह ट्रेन जंक्शन आकर रुकी। इसके बाद जीआरपी के जवानों ने बोगी से बैग बरामद कर लिया।

दोपहर में लौटाया बैग

थर्सडे दोपहर में लखनऊ के आकाश एंक्लेव निवासी दंपत्ति बरेली जंक्शन पहुंचे। कागजी कार्रवाई के बाद उन्हें बैग लौटा दिया गया। जीआरपी बरेली जंक्शन प्रभारी निरीक्षक किशन अवतार ने बताया कि बैग में करीब 30 हजार रुपये नकद, पांच आस्ट्रेलिया करेंसी के नोट। सोने के आभूषणों में कड़ा, टॉप्स, अंगूठी और माला समेत अन्य सामान था।

वायुसेना कर्मी का खोया मोबाइल मिला

वहीं, त्रिशूल एयरफोर्स स्टेशन निवासी रविंद्र नाथ राय नौ अप्रैल को किसी काम से जंक्शन पर आए थे। यहां उनका स्मार्ट फोन प्लेटफार्म पर गिर गया। काफी खोजबीन के बावजूद मोबाइल नहीं मिला। जीआरपी को सूचना दी। थर्सडे को जीआरपी ने खोया स्मार्ट फोन बरामद कर वायु सेना कर्मी को सौंपा। वहीं, एक अन्य मामले में बिहार के सहरसा निवासी राजेश कुमार का मई 2018 में खोया बैग भी जंक्शन जीआरपी ने वापस किया।