छ्वन्रूस्॥श्वष्ठक्कक्त्र: बकरीद के दिन जिला प्रशासन की ओर से सीसीटीवी के साथ ही ड्रोन कैमरा से निगरानी की जाएगी. त्योहार के मद्देनजर जिला प्रशासन द्वारा असामाजिक तत्वों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है. ये बातें पूर्वी सिंहभूम जिला के उपायुक्त अमित कुमार ने कही. ईद उल अजहा (बकरीद) के अवसर पर जिले में नागरिक सुविधा एवं विधि-व्यवस्था को लेकर सोमवार को जिला मुख्यालय सभागार में हुई बैठक में उन्होंने कहा कि संवेदनशील स्थानों पर पुलिस बल की तैनाती की जाएगी. बैठक में सभी मस्जिदों के प्रतिनिधि के अलावा मुस्लिम समुदाय के प्रबुद्ध लोग शामिल हुए.

अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ने बताया कि झारखंड में प्रतिबंधित पशुओं की कुर्बानी देना गैरकानूनी है, इससे बचने की आवश्यकता है. उन्होंने बकरीद त्योहार के अवसर पर गोवंशीय वध निषेध अधिनियम का पालन करने की अपील की. उपायुक्त ने कहा कि गोवंशीय पशु को छोड़ कुर्बानी के पश्चात अवशेषों का निष्पादन बेहतर तरीके से करें, क्योंकि कुर्बानी के बाद बचा अवशेष भी कई बार विवाद का कारण बनते हैं.

सुविधाओं पर विशेष ध्यान

बैठक में उपायुक्त अमित कुमार ने बताया कि बकरीद में नागरिक सुविधा को लेकर प्रशासन मुस्तैद है, निकायों के विशेष पदाधिकारियों को साफ -सफाई और पेयजल सुविधा उपलब्ध कराने के लिए निर्देश दिए गए हैं. उन्होंने कहा कि लोग अपने स्तर से भी नमाज के स्थल की साफ सफाई का ध्यान रखें. उपायुक्त ने मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधियों से बकरीद के दिन विधि व्यवस्था और शांति बहाल करने के लिए जिला प्रशासन का सहयोग करने की अपील की.

प्रतिबंधित पशुओं की न दें कुर्बानी : एसएसपी

एसएसपी अनूप बिरथरे ने मुस्लिम समुदाय के प्रतिनिधियों से कहा कि बकरीद में प्रतिबंधित पशुओं की कुर्बानी ना दें. कहा, झारखंड में गोवंशीय वध निषेध अधिनियम-2005 के तहत प्रतिबंधित पशुओं की कुर्बानी देना गैरकानूनी है. एसएसपी ने बैठक में उपस्थित सभी प्रतिनिधियों को आश्वस्त किया कि जिला प्रशासन असामाजिक तत्वों से निपटने के लिए तैयार है. बैठक में एडीएम लॉ एडं आर्डर सुबोध कुमार, सिटी एसपी प्रभात कुमार, अनुमंडल पदाधिकारी, धालभूम माधवी मिश्रा समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे.