ranchi@inext.co.in
RANCHI :
रांची के धुर्वा इलाके में गुरुवार को 25 बांग्लादेशी घुसपैठियों के आने की सूचना ने पुलिस की नींद उड़ा दी। घंटों हंगामे का माहौल रहा। दरअसल पुलिस को सूचना दी गई कि बांग्लादेश के कुछ लोग मौसीबाड़ी इलाके में घुस आए हैं और वे भारत विरोधी नारे भी लगा रहे हैं। जिसके बाद पुलिस ने मौके पर पहुंच कर पड़ताल शुरू की। इनमें से पांच को पुलिस ने थाने लाकर पूछताछ की तो मामला कुछ और ही निकला जिन्हें बांग्लादेशी घुसपैठ बताया गया जांच के बाद वे सभी मजदूर निकले। अब पुलिस इसे अफवाह फैलाने की साजिश का हिस्सा मान इसके पर्दाफाश के लिए जांच में जुटी है।

रह रहे थे किराए के घर में

धुर्वा थाना क्षेत्र के मौसीबाड़ी इलाके में किराये के मकान में रह रहे 25 युवकों के बारे में इलाके के लोगों ने सूचना दी थी कि वे बांग्लादेशी हैं। मौके पर पहुंची पुलिस ने उनसे पूछताछ की तो पता चला कि सभी युवक किराए के मकान में रहते हैं और रांची में बिजली का काम करने वाली कंपनी के लिए काम करते हैं।


सभी मालदा के निकले मजदूर

पुलिसिया जांच के दौरान सभी युवकों ने अपने आधार कार्ड दिखाए। युवकों के अनुसार वे सभी पश्चिम बंगाल के मालदा के रहने वाले हैं। बिजली विभाग का काम करने वाली कंपनी ने ही दो दिन पहले उन्हें धुर्वा इलाके में रहने के लिए मकान उपलब्ध कराया था। वे रांची में बिजली का काम करते हैं।


बिजली का करते हैं काम

इस बीच सूचना पाकर मौके पर पहुंचे कंपनी के सुपरवाइजर मुकेश झा और राहुल दुबे ने बताया कि लोकसभा चुनाव के कारण सारा काम रांची में ही हो रहा था। इस वजह से सभी मजदूरों को किराये के मकान में रखा गया था। वह दिनभर रांची के अलग-अलग क्षेत्रों में बिजली का काम करते हैं।

किसने फैलाई अफवाह, हो रही जांच

वहीं, मामले की जांच के बाद पुलिस ने सभी युवकों को छोड़ दिया। लेकिन इसके साथ ही पुलिस यह भी जांच कर रही है कि किस शख्स ने यह अफवाह फैलाई की सभी बांग्लादेशी नागरिक हैं और भारत विरोधी नारे लगा रहे थे।