- बीडीए कर्मचारियों से सांठगांठ कर लाल फाटक के पास स्थित एक बारात घर ने किया खेल

- बारात घर में हो रही शादियों की बुकिंग और बीडीए ने रिपोर्ट बना दी नहीं है कोई बारातघर

BAREILLY:

लाल फाटक के पास चल रहे एक अवैध बारात घर को संरक्षण देने के लिए बीडीए कर्मचारियों ने सर्वे रिपोर्ट में ही खेल कर दिया. रुपए के लिए सर्वे रिपोर्ट में मानसिंह राठौर के नाम से बारात घर दिखा दिया. जबकि, बारातघर मानसिंह साहू का है. मजे की बात यह है कि सर्वे रिपोर्ट के आधार पर तैयार लिस्ट लेकर जब बीडीए अधिकारी पहुंचे तो उन्हें मानसिंह साहू के बारात घर की जगह गड्डा युक्त जमीन दिखा दी गई. लिहाजा, अधिकारियों के निर्देश के बाद फाइनल रिपोर्ट तैयार कर दी गई कि लाल फाटक के पास इस तरह का कोई बारात घर नहीं है. जबकि, हकीकत यह है कि बारातघर में हर दूसरे-तीसरे दिन किसी न किसी की शादी सम्पन्न हो रही है.

इंवेस्टिगेशन में सच्चाई आई सामने

हकीकत जानने के लिए दैनिक जागरण आईनेक्स्ट की टीम फ्राइडे को लाल फाटक पहुंची. जहां एक बुढ़ी अम्मा मिली. क्वेरी करने पर उन्होंने अपने आप को मानसिंह साहू की मां बताया. जब उनसे 2 मई की एक शादी के लिए बारात घर की बुकिंग कराने की बात कही गई तो उन्होंने पहले तो साफ मना कर दिया. कहना था कि यहां शादी की बुकिंग नहीं होती है. जब बारात घर में बिखरे थाली, ग्लास और बचे हुए खाने के बारे में पूछा तो उन्होंने स्वीकार किया कि नई-नई बुकिंग हुई है. फिर, अपने बेटे से पूछ कर बताने काे कहा.

जरा इनकी सुनिए क्या है कहना

कुछ ही देर में मानसिंह साहू आ गए. शायद, उन्हें आभास हो गया था पूछताछ करने वाले मीडिया के हैं. मानसिंह का कहना था कि यहां किसी शादी की बुकिंग नहीं होती हैं. सिर्फ रिलेटिव की शादी होती है. अब रिलेटिव को कैसे मना कर सकते हैं. बाहर शादी करने पर फालतू का खर्चा आएगा. अब मेरे पास जगह है, तो प्रोवाइड करा देते हैं. बीती रात भी मेरी भांजी की शादी थी. भांजी का नाम पूछने पर मानसिंह ने आगे कुछ भी बताने से साफ इंकार कर दिया.

बारात घर के अंदर जला रहे कूड़ा

यदि, मानसिंह की बातों को सही भी मान लिया जाए, तो फिर बारातघर के अंदर सजावट के सामान, टेबल, बिना कैनोपी वाले दो सेट जनरेटर, दो दर्जन से अधिक टीन वाले कूलर सहित अन्य सामान पड़े हुए थे. अवैध रूप से चल रहा बारातघर इंवॉयरमेंट को भी दूषित कर रहा है. बारातघर के अंदर ही शादी के बाद वेस्ट चीजों जैसे प्लेट ग्लास आदि को जला दिया जाता है. फ्राइडे को भी एक व्यक्ति कूड़ा इकठ्ठा कर जला रहा था.

रुपए लेने के आरोप

मजे के बात यह है कि दो दिन पहले बीडीए की इंक्रोचमेंट टीम गई थी. आरोप है कि कार्रवाई करने की बजाय वह 40 हजार रुपए लेकर लौट आई. हालांकि, जब दैनिक जागरण आईनेक्स्ट ने इंक्रोचमेंट टीम में शामिल लोगों से बात की, तो उनका कहना था कि मामला दबाने के लिए रुपए देने का ऑफर मिला था लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया.

अवैध बारात घरों को नोटिस

बता दें कि, पिछले दिनों बीडीए ने 83 अवैध बारात घरों को नोटिस जारी किया था. बारात घरों को कम्पाउंडिंग की स्लैब जमा करने के निर्देश दिए थे. जिनमें से मैक्सिमम बारात घरों ने कार्रवाई के डर से कम्पाउंडिंग स्लैब जमा कर दिया हैं.

मामले की जांच अभी कराते हैं. अवैध बारात घर में यदि शादी की बुकिंग और शादियां हो रही है, तो कार्रवाई की जाएगी.

सुरेंद्र प्रसाद, सचिव, बीडीए

शादी की कोई बुकिंग नहीं की जाती है. सिर्फ रिलेटिव की शादी होती है. कल मेरी भांजी की शादी थी.

मानसिंह साहू