यहां-वहां बारूद ही बारूद
आगरा शहर की नगर निगम सीमा के अंदर 90 वार्ड है. शायद ही कोई ऐसा वार्ड हो जहां पर लगभग एक दर्जन शॉप्स ऐसी ना हों जिनपर अवैध क्रेकर्स सेल नहीं हो रहे हों. ऐसा नहीं है कि यह सेल होते क्रेकर्स किसी को दिखाई नहीं दे रहे है. परचेजिंग करने वालों के अलावा इन क्रेकर्स की अवैध होती सेल को एडमिनिस्ट्रेटिव ऑफिसर्स भी देख रहे है ये बात अलग है कि सबकुछ देखते हुए भी सिचुएशन की अनदेखी की जा रही है.  
यहां का लाइसेंस है उगाही
सिटी में क्रेकर्स सेल को लेकर बाकायदा लाइसेंस इश्यु किया जाता है. इसके लिए बाकायदा एप्लीकेशन मांगी जाती है. उसके बाद एडीएम सिटी ऑफिस से क्रेकर्स सेलिंग के लिए अस्थाई लाइसेंस इश्यु किया जाता है. लेकिन सिटी में जगह-जगह फड़ लगाकर सेल किए जा रहे क्रेकर्स के मामले में मनमानी की जा रही है. लोकल पुलिस अवैध रूप से पटाखा बेचने वालों से उगाही कर रहे है. यहां का लाइसेंस ही उगाही हो गया है.
जा सकती है जान  
अवैध रूप से क्रेकर्स की सेल कोई और नहीं कर रहा बल्कि ताज सिटी की रोड किनारे बने मार्केट स्थित शॉप्स के बाहर ही इन्हें सेल किया जा रहा है. सबसे ज्यादा अवैध सेलिंग के प्वॉइंट बने है सिटी के जनरल स्टोर्स. खतरे का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि खुलेआम बारुद रखकर सेल करने वाली ये शॉप्स भीड़भाड़ वाले एरियाज में पटाखे बेच रही है.