AGRA: विवि को हाईटेक और डिजिटल होने का दावा करने वाले विवि अधिकारी परीक्षार्थियों को एडमिट कार्ड तक मुहैया नहीं करा पा रहे हैं। गुरुवार को शुरू हुए बीएड एग्जाम में स्टूडेंट्स को बिना एडमिट कार्ड के परीक्षा में बिठाया गया। डॉ.भीमराव आंबेडकर विश्वविद्यालय द्वारा गुरुवार को दो पालियों में बीएड परीक्षा का आयोजन कराया गया। एग्जाम के पहले दिन स्टूडेंट्स एडमिट कार्ड के लिए संबंधित कॉलेज और विवि कार्यालय के बीच चक्कर लगाते देखे गए।

डिजिटल विवि कागजों पर
विश्वविद्यालय को डिजिटल करने की बात करने वाले अधिकारियों के दावे बीएड एग्जाम से पहले हवाहवाई हो गए। एडमिट कार्ड के लिए बीएड स्टूडेंट्स ने जब विवि की वेबसाइट पर संपर्क किया तो तकनीकि खामी के चलते उन्हें निराश होना पड़ा। वहीं कॉलेज संचालकों ने भी गेंद विवि के पाले में डाल दी। इससे एग्जाम से एक घंटे से पहले तक परीक्षार्थी एडमिट कार्ड के लिए कार्यालय के चक्कर लगाते देखे गए। अपने भविष्य पर संकट के बादल देख स्टूडेंट्स ने जब उच्चाधिकारियों से संपर्क किया तो उनके द्वारा कोई संतोषजनक उत्तर नहीं मिला।

परीक्षार्थियों को मिली छूट
हालांकि बाद में कॉलेज संचालकों ने बिना एडमिट कार्ड के स्टूडेंट्स को बीएड एग्जाम में बिठा दिया। इससे वह राहत महसूस कर रहे हैं कि उनका साल बर्बाद होने से बच गया। लेकिन अगर आंसर शीट पर रोल नंबर जारी नहीं किया गया तो उनका मूल्यांकन किस तरह से किया जाएगा, साथ ही स्टूडेंट्स के पास एग्जाम देने का कोई लेखा-जोखा नहीं है, ऐसी स्थिति में एग्जाम देने के बाद भी उनके भविष्य पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं।

कॉलेज संचालक ने दौड़ाई पुलिस
बीएड एग्जाम में बैठने की लिए सुविधा शुल्क नहीं देने पर एग्जाम देने पहुंचे स्टूडेंट्स और मेघसिंह महाविद्यालय के प्रबंधक के बीच फीस को लेकर कहासुनी हो गई। पीडि़त स्टूडेंट्स ने इस मामले में स्थानीय पुलिस से संपर्क किया। दबंग महाविद्यालय संचालक ने पुलिस को भी दौड़ा दिया। मामला पुलिस प्रशासन के बड़े अधिकारियों के संज्ञान में है। इस मामले को लेकर पीडि़त स्टूडेंट्स शुक्रवार को जिलाधिकारी से मिलेंगे। स्टूडेंट्स का कहना है कि कॉलेज प्रबंधक उनसे परीक्षा में बैठने के लिए फीस के अलावा अतरिक्त शुल्क की डिमांड कर रहे थे, जिसे स्टूडेंट्स ने देने से इंकार कर दिया।

वर्जन

एग्जाम में स्टूडेंट्स की समस्या को संज्ञान में लिया गया है, जल्द इसका निस्तारण किया जाएगा। एग्जाम पहले दिन शांतिपूर्ण ढंग से कराया गया है।

डॉ। ओमप्रकाश सिंह, एग्जाम कंट्रोल