.व्हाट्सएप और फेसबुक पर वायरल वीडियो से मचा हड़कंप

.अध्यक्ष ने कहा, आयोग नहीं कराता ग्रुप डी की परीक्षा

lucknow@inext.co.in

LUCKNOW

सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो से नगर निगम जोन-5 में बतौर कर निरीक्षक की जिम्मेदारी संभाल रहीं अनामिका यादव सवालों के घेरे में आ गई हैं. वीडियो में खुद को कर निरीक्षक बता रही हैं कि किस तरह परीक्षा से पहले आंसर और सेलेक्शन की गारंटी ली गई थी. वीडियो के सामने आने के बाद उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग पर भी उंगली उठने लगी है. प्रतियोगी छात्र अवनीश पांडेय का दावा है कि वीडियो सही है और इसके साथ कोई छेड़छाड़ नहीं की गई है. इसे उन्होंने सीबीआई से लेकर पीएम तक को ट्वीट कर दिया है ताकि इसे भी जाने वाले दिनों में होने वाली सीबीआई जांच में शामिल किया जाए.

वीडियो के प्रमुख अंश

सवाल: परीक्षा आपने खुद दी थी या नहीं

जवाब: खुद शामिल हुई थी परीक्षा में

सवाल : आपको कितने सवाल के जवाब पहले मिल गये थे

महिला: पहले प्रश्न पत्र के 150 सवालों में से 135 के मिल गये थे

सवाल: दूसरा प्रश्न पत्र था किस सब्जेक्ट का

जवाब: हिंदी का

सवाल: कितने प्रश्न पूछे गए थे

जवाब: 25 प्रश्न थे 50 अंक के

सवाल: इसमें भी पहले उत्तर मिला था

जवाब: हां, करीब 22 सवालों का

सवाल: फिर तो 85 फीसदी नंबर फिक्स

जवाब: तभी तो जॉब की गारंटी ली थी

सवाल: कितने रुपए में तय हुआ था सौदा

जवाब: अब यह बताना ठीक नहीं है

(यह वीडियो किसी रेस्टोरेंट में शूट किया गया है. महिला से बात करने वाले शख्स खुद को प्रतियोगी बता रहे हैं और यह भी कि वह प्री क्लीयर कर चुके हैं. मेंस और इंटरव्यू के लिए सेटिंग करनी है. कर निरीक्षक साफ कह रही है कि बंदा सेलेक्शन की फुल गारंटी लेता है. कई बार सवाल के बाद भी वह कितने रुपए दिए गए, यह नहीं बताती. इसमें प्रोबेशन और नौकरी ज्वाइन कर लेने की भी बात है.)

2016 परीक्षा के लिये किया था दावा

यह वीडियो कितना सही है? यह तो जांच का विषय है. लेकिन, प्रतियोगी छात्र संघर्ष समिति के मीडिया प्रभारी अवनीश पांडेय ने दावा किया है कि बातचीत में फर्जी तरीके से नौकरी हथियाने और नौकरी दिलवाने का दावा कर रही महिला कोई और नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश पब्लिक सर्विस कमीशन इलाहाबाद के राजस्व निरीक्षक परीक्षा 2014 में चयनित अनामिका यादव हैं. अवनीश ने खुद बताया कि अनामिका लखनऊ नगर निगम के सेक्टर 5 में तैनात हैं. हालांकि, अवनीश ने शनिवार की सुबह 10:19 मिनट पर वायरल किये गये वीडियो में दावा किया था कि अनामिका का चयन राजस्व निरीक्षक एग्जाम 2016 में हुआ था.

आयोग ने किया खारिज तो कहा 2014 परीक्षा में चयन

उनके इस दावे के बाद शाम 04:44 बजे आयोग के मीडिया प्रभारी सुरेन्द्र उपाध्याय ने बयान जारी करके कहा कि राजस्व निरीक्षक 2016 का कोई विज्ञापन आयोग द्वारा जारी ही नहीं किया गया. सुरेन्द्र उपाध्याय के मुताबिक वायरल वीडियो का कोई संबंध आयोग से नहीं है. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट रिपोर्टर ने उनके इस दावे की पड़ताल की तो आयोग के मीडिया प्रभारी का बयान सत्य पाया गया. पड़ताल में पता चला कि राजस्व निरीक्षक 2016 की परीक्षा यूपीएसएसएससी लखनऊ ने करवाई थी. इसके बाद अवनीश पांडेय से बात की गई तो उन्होंने कहा कि उन्होंने वायरल वीडियो के साथ जो रिटेन में कंटेंट दिया, उसमें गलती से 2014 परीक्षा की जगह 2016 लिख दिया था. अवनीश ने इस पूरे मामले की जांच के लिये प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री और सीबीआई को भी ट्वीट कर दिया है.

कोट

आयोग को बदनाम करने की साजिश है. इसके खिलाफ आयोग सख्ती से कदम उठायेगा. वीडियो में शामिल महिला के दावे से आयोग का कोई लेना देना नहीं है. मैं इस पर सोमवार को पूरी तरह से कुछ कहूंगा.

सुरेन्द्र उपाध्याय,

मीडिया प्रभारी, यूपीपीएससी

मेरी जानकारी में आयोग राजस्व निरीक्षक की परीक्षा नहीं करवाता है. यह तो ग्रुप सी की भर्ती है. फिर भी मैं पता करवाता हूं कि क्या मामला है?

-प्रो. अनिरूद्ध यादव,

चेयरमैन यूपीपीएससी

संबंधित छात्रा का चयन राजस्व निरीक्षक 2014 की परीक्षा में हुआ है. वीडियो को जांच के लिए मैने सीबीआई के साथ पीएम व अन्य को ट्वीट कर दिया है.

अवनीश कुमार पांडेय

प्रतियोगी छात्र

बोले जिम्मेदार

मामला संज्ञान में आया है लेकिन नियुक्ति शासन स्तर पर हुई है. शासन से मिलने वाले निर्देशों के आधार पर कदम उठाए जाएंगे.

उदयराज सिंह, नगर आयुक्त, लखनऊ

नोट: दैनिक जागरण-आई नेक्स्ट वायरल वीडियो के सत्यतता का दावा नहीं करता है.