kanpur@inext.co.in
KANPUR :
'मैंने कहा मेरा क्या होगा तेरे छोडऩे के बाद, उसने हंसकर कहा लावारिस अक्सर मर जाया करते हैं...' फेसबुक पर एकदिन पहले ये दर्द भरी शायरी पोस्ट करने के बाद कल्याणपुर निवासी एक युवती ने फांसी लगाकर जान दे दी। वह परिजनों से अलग सहेली के साथ किराये के रूम में रहती थी। सुबह सहेली ड्यूटी से घर पहुंची तो उसका शव फंदे पर लटका था।

बहुत हिम्म्ती थी नाहिदा
सहेली का मानना है कि उसने बीमारी और बेरोजगारी से परेशान होकर जान दी है, लेकिन मौके से मिली शराब की बोतल, सिगरेट का पैकेट और फेसबुक में उसकी शायरी से तो कुछ और ही बयां हो रहा है। एक्सपर्ट का कहना है कि जो युवती माता पिता से अलग रहने की हिम्मत जुटा सकती है वो बीमारी या बेरोजगारी से जान नहीं दे सकती है।

रूम के अंदर मिली शराब
कल्याणपुर लवकुश विहार में नाहिदा आलम (32) और रोजी नाम की दो सहेली किराये पर रहती थीं। रोजी नर्स है, जबकि नाहिदा बेरोजगार चल रही थी। नाहिदा मूलरूप से जाजमऊ डिफेंस कॉलोनी निवासी थी। उसके पिता के पास नामचीन दूध कंपनी की फ्रेंचाइजी है। नाहिदा तीन बहनों में दूसरे नंबर की थी। उसका एक भाई भी है। नाहिदा कुछ महीने से परिजनों से अलग सहेली के साथ रह रही थी। सहेली के मुताबिक वह परिजनों से बहुत कम बात करती थी। नाहिदा के रूम से शराब की बोलत और सिगरेट की डिब्बी भी मिली है।

उसकी शायरी बहुत कुछ कहती थी
नाहिदा फेसबुक में बेहद एक्टिव रहती थी। वह पिछले डेढ़ साल से फेसबुक में रोज कोई न कोई दर्द भरी शायरी पोस्ट करती थी। माना जा रहा है कि जब से वह घर से अलग हुई थी। तभी से दिल के दर्द का अहसास दिलाने के लिए फेसबुक पर रोज कोई न कोई शायरी पोस्ट करती थी। उसकी पोस्ट पढ़कर ऐसा लगता था जैसे उसका दिल टूट चुका है या किसी से धोखा मिला है।

ब्वॉयकट हेयर स्टाइल और बिंदास अंदाज
नाहिदा बेहद मॉडर्न और आजाद ख्यालों वाली लड़की थी। वह ब्वॉयकट हेयरस्टायल रखती थी। साथ ही बाइक चलाने की भी शौकीन थी। वह अक्सर एवेंजर बाइक से चलती थी। पहली नजर में उसे देखकर कोई भी समझ नहीं पाता था कि वह लड़की है। उसका हर अंदाज लड़कों जैसा था। फेसबुक प्रोफाइल में उसने खुद को यंग लीडर लिखा था। फेसबुक प्रोफाइल के मुताबिक वह पॉलिटिक्स में जाना चाहती थी। माना जा रहा है कि इसी सोच की वजह से परिजन उसको पसंद नहीं करते थे और वह घर से अलग रहने लगी थी।

घर पर अकेली थी नाहिदा
बताया जा रहा है कि अकेलेपन की वजह से वह नशा करने लगी थी। सोमवार को नाइट शिफ्ट में ड्यूटी होने की वजह से रोजी शाम को हॉस्पिटल चली गई थी। रूम में नाहिदा अकेले थी। सुबह करीब 8।30 बजे रोजी रूम पर पहुंची तो वहां पर नाहिदा का शव फंदे पर लटका था। पुलिस ने फोरेंसिक टीम के साथ जांच करने के साथ परिजनों को जानकारी दे दी, लेकिन परिजन दो घंटे बाद भी नहीं पहुंचे।

नवंबर में भी की थी कोशिश
नाहिदा की सहेली रोजी के मुताबिक नाहिदा ने नवंबर में सुसाइड नोट लिखा था। जिसे उसने देख लिया था। रोजी के मुताबिक, उसके समझाने पर नाहिदा मान गई थी। नाहिदा ने सुसाइड नोट फाड़ दिया था, लेकिन उससे पहले रोजी ने सुसाइड नोट की फोटो क्लिक कर ली थी। रोजी ने पुलिस को उसकी फोटो दे दी है। पुलिस का कहना है कि सभी बिंदु पर जांच चल रही है। जल्द ही सच्चाई का पता चलेगा।

Crime News inextlive from Crime News Desk