-3500 पशुओं की क्षमता

-5000 पशु क्षमता बढ़ोत्तरी के बाद

-6000 से अधिक आवारा पशु शहर में

-700 के करीब आवारा पशु हर जोन में-इंदौर की तर्ज पर नगर निगम लखनऊ बना रहा योजना

-पशुओं के बेहतर स्वास्थ्य पर किया जाएगा फोकस

abhishekmishra@inext.co.in

LUCKNOW शहर के विभिन्न इलाकों से पकड़कर कान्हा उपवन लाए गए पशुओं के उग्र व्यवहार में चेंज लाने और उनके बेहतर स्वास्थ्य के लिए नगर निगम इंदौर की तर्ज पर कदम उठाएगा. इस कदम से साफ है कि कान्हा उपवन में सुबह के वक्त जहां बांसुरी की धुन सुनाई देगी, वहीं दूसरी तरफ पशुओं को बॉडी मसाज भी दी जाएगी. इतना ही नहीं, पशुओं का हर सप्ताह मेडिकल चेकअप भी किया जाएगा. यह भी जानकारी सामने आई है कि निगम की टीम लोगों को पशुओं के प्रति अच्छा व्यवहार करने के लिए प्रेरित भी करेगी. जल्द ही निगम की एक टीम इंदौर जाकर योजना को क्रियांवित करने की दिशा में कदम उठाएगी.

इसलिए पड़ी जरूरत

हाल में कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें पशुओं ने लोगों पर हमला किया है. निगम की ओर से ऐसे पशुओं को पकड़ कर कान्हा उपवन तो भेज दिया गया, लेकिन शहर में अभी हजारों ऐसे जानवर घूम रहे हैं जो अपने हिंसक व्यवहार के कारण लोगों के लिए खतरा बन रहे हैं. इन चीजों को ध्यान में रखते हुए ही यह कदम उठाया जा रहा है.

मेयर ने किया था इंस्पेक्शन

हाल में ही मेयर संयुक्ता भाटिया इंदौर गई थीं. वहां उन्होंने कूड़ा निस्तारण प्रोसेस के साथ सफाई व्यवस्था की तकनीक को देखा था. इसके साथ ही उन्होंने कैसरबाग रोड स्थित श्री अहिल्या माता गौशाला का भी निरीक्षण किया था. यहां उन्होंने देखा था कि किस तरह से पशुओं का रखरखाव किया जा रहा है. यहां मेयर को बताया गया कि पशुओं के बेहतर स्वास्थ्य और उग्र व्यवहार में परिवर्तन लाने के लिए क्या तरीके अपनाए गए हैं. जिनमें प्रमुख रूप से बांसुरी की धुन, बॉडी मसाज और फॉगर शामिल हैं. यहां सुबह बांसुरी की धुन बजाई जाती है तो दोपहर में पशुओं को बॉडी मसाज दी जाती है. अधिक गर्मी होने पर पशुओं पर पानी की बौछार की जाती है.

योजना पर होमवर्क शुरू

हाल में ही मेयर ने कान्हा उपवन की जिम्मेदारी संभाल रहे अधिकारियों को इंदौर की तर्ज पर योजना तैयार कर क्रियांवित करने को कहा है. इस योजना को क्रियांवित करने से पहले एक टीम इंदौर भेजी जा सकती है. जिससे योजना की बारीकियों से अधिकारी रूबरू हो सकें.

बाक्स

हवन सामग्री बनाने की तैयारी

हाल में ही कान्हा उपवन में हवन सामग्री बनाने की तैयारी शुरू की गई है. हालांकि अभी इस दिशा में कदम तो आगे नहीं बढ़ाए गए हैं लेकिन योजना अंतिम चरण में है.

वर्जन

इंदौर की तर्ज पर कान्हा उपवन में भी पशुओं की बॉडी मसाज और फॉगर की व्यवस्था की जाएगी. योजना तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं. पशुओं के बेहतर स्वास्थ्य और उनके उग्र व्यवहार में बदलाव लाने के लिए यह व्यवस्था की जाएगी.

-संयुक्ता भाटिया, मेयर