दूर-दूर से आई बहनों ने किया भाइयों को तिलक

-भाईयों को नेकी के रास्ते पर चलने की दिलाई शपथ

आगरा. भाई दूज के पर्व पर सेंट्रल जेल और जिला जेल में सुबह से बहनों का पहुंचना शुरू हो गया. जेल प्रशासन ने पहले से तैयारी कर रखी थी. जेल के अंदर कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच बहनों का भाई से मिलना हुआ. इस दौरान जेल प्रशासन द्वारा साथ में लाई गई मिठाइयां भी चेक कर अंदर जाने दिया.

सुबह से हुई पर्ची कटना शुरू

जिला जेल और सेंट्रल जेल पर सुबह से ही मिलाई की पर्ची कटनी शुरू हो गई. भाई दूज के दिन पुरुषों को किसी बंदी से मिलने नहीं दिया जाता. मात्र महिलाएं ही जेल में बंदियों से मिल सकती हैं. जिला जेल में काउंटर पर पर्ची काट रहा कर्मचारी हर महिला से पांच रुपये लेकर पर्ची दे रहा था. सुरक्षा के लिहाज से सूखी पैक मिठाई को ही अंदर ले जाने दिया जा रहा था.

बैठने के लिए नहीं मिली जगह

जिला जेल में आने वाली बहनों को बैठने की दिक्कत का सामना करना पड़ा. जेल में इतनी भीड़ थी कि बैठने के लिए जगह नहीं थी. बहनों को मैदान में ही अपनी बारी का इंतजार करना पड़ा. सभी को शिफ्ट में भेजा रहा था. कर्मचारी पर्ची पर आकर नाम बोलता इसके बाद बहने अंदर जाने की तैयारी करतीं. इस दौरान पानी और शौचालय की व्यवस्था दुरुस्त दिखी.

अलग से भी लगाया गया पुलिस पिकेट

जिला जेल में जेल सुरक्षा के अलावा लाइन और थाना हरीपर्वत से 35 पुलिसकर्मियों की ड्यूटी लगाई गई. इनमें एक महिला एसआई व पांच महिला कांस्टेबल तैनात रहीं. जेल गेट पर तैनात पुलिसकर्मी सामान की तलाशी के बाद ही लोगों को अंदर जाने दे रहे थे. इसके अलावा अंदर भी जेल प्रशासन की तरफ से चेकिंग की जा रही थी.

भाईयों को दिलाई शपथ

अपराध के रास्ते पर चलने से भाईयों को उनके परिवार से दूर होना पड़ा. हर साल आने वाले त्योहारों पर परिवार अपने बेटों की राह देखते हैं. बहनों को हर रक्षा बंधन और भाई दूज के दिन अपने भाईयों से मिलने हर हाल में आना होता है. उनका एक मात्र गुनाह उनके जीवन को पूरी तरह बदल देता है. भाई दूज करने आई बहनों ने भाईयों को शपथ दिलाई कि वे अपराध के रास्ते पर न चल कर नेकी का रास्ता अपनाएंगे और अपने परिवार का ख्याल रखेंगे.

इंस्पेक्टर ने बहनों को बांटी मिठाई

इंस्पेक्टर थाना हरीपर्वत महेश चंद गौतम अपनी बहन से तिलक नहीं करा पाए. अवकाश न मिलने से वह घर नहीं जा पाए. उनकी ड्यूटी जिला जेल पर लगाई गई. सुबह से ही वह ड्यूटी पर तैनात थे. बहनें अपने-अपने भाई के लिए थाली में रोली-चावल सजा कर आ-जा रही थीं. बहनों को देख कर थाना प्रभारी भावुक हो गए.

बहनों को बांटी मिठाई

थाना प्रभारी को मिलाई करने आई बहनों में अपनी बहन दिखाई दी. उन्होंने बहनों को उपहार देने का मन बनाया. उन्होने तुरंत मिठाई मंगवा कर बहनों को बांट कर भाई दूज पर्व मनाया. बहनें थाना प्रभारी से उपहार पाकर बहुत खुश हुई और सलामत रहने की दुआएं दीं. जेल में शाम तक मिलाई का दौर चलता रहा.