- 23 सितंबर को हुए बवाल के बाद बंद बीएचयू मंगलवार से खुला

10 दिन की छुट्टी के लौटे स्टूडेंट्स, कैंपस में दिखी कड़ी सुरक्षा व्यवस्था

varanasi@inext.co.in

VARANASI

ख्फ् सितंबर को हुए बवाल के बाद बंद बीएचयू में मंगलवार से पठन पाठन का कार्य फिर से शुरू हुआ. दस दिन बाद बीएचयू खुला और कैंपस में फिर से एक बार चहल पहल दिखायी देने लगी. हालांकि स्टूडेंट्स ने अधिकतर समय कैंपस की चर्चा में ही गुजारी. कैंपस खुलने पर फिर से उपद्रव की आशंका के मद्देनजर कैंपस में सुरक्षाकर्मी मुस्तैद रहे. कैंपस के हर संवेदनशील पॉइंट्स पर विशेष सतर्कता बरती जा रही है. महिला महाविद्यालय, त्रिवेणी संकुल, बिड़ला, एलबीएस, ब्रोचा आदि हॉस्टल्स के पास सुरक्षाकर्मियों की अतिरिक्त संख्या लगायी गयी है.

हॉस्टल में लौटे स्टूडेंट्स

एमएमवी, त्रिवेणी, बिरला, एलबीएस आदि जिन हॉस्टल को मौखिक रूप से खाली करा दिया गया था उनमें फिर से रौनक लौट रही है. अधिकतर स्टूडेंट्स लौट चुके हैं. महिला हॉस्टल में रहने वाली छात्राओं के साथ उनके पेरेंट्स भी आये थे. उन्होंने पूरी तसल्ली करने के बाद ही अपनी बेटियों को हॉस्टल में छोड़ा. पेरेंट्स हॉस्टल की वार्डेस से भी मिले. नवनियुक्त चीफ प्राक्टर प्रो रॉयना सिंह पूरे दिन सक्रिय रहीं. वायरलेस पर लगातार कंट्रोल रूम से सूचनाओं को आदान प्रदान होता रहा. बताते चलें कि ख्क् सितंबर को बीएफए सेकेंड इयर की एक छात्रा के साथ छेड़खानी की घटना हुई थी. इससे आक्रोशित लड़कियों ने बीएचयू मेनगेट पर धरना शुरू कर दिया. बीएचयू के इतिहास में ऐसा पहली बार कि ब्ख् घंटे तक मेनगेट से आवागमन बंद रहा. ख्फ् सितंबर को छात्राओं पर लाठीचार्ज के बाद हालात बिगड़ गये. उस दिन हुए बवाल के बाद बीएचयू एडमिनिस्ट्रेशन ने दशहरे की छुट्टियां निर्धारित तारीख से पहले की कर दीं थी.

बॉक्स

महिला गा‌र्ड्स ने संभाला मोर्चा

छेड़खानी के बाद छात्राओं पर लाठीचार्ज बवाल, आगजनी के बाद महिलाओं की सुरक्षा के बाबत बीएचयू का प्राक्टोरियल बोर्ड खासा एलर्ट है. डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्टेशन के निर्देश में पालन में बीएचयू में महिला गार्ड की नियुक्ति की गयी है. मंगलवार को बीएचयू खुलने पर उन्हेांने मोर्चा संभाल लिया. महिला गा‌र्ड्स की तैनाती एमएमवी, त्रिवेणी हास्टल सहित विभिन्न जगहों पर की गयी है. इसके अलावा महिला होमगा‌र्ड्स को भी कैंपस में लगाया गया है.