एसएस हॉस्पिटल बीएचयू के डाक्टर पर लापरवाही का आरोप

-मरीज के परिजनों ने दी थाने में तहरीर, जिला प्रशासन ने शुरू की जांच

varanasi@inext.co.in

VARANASI

बीएचयू के एसएस हॉस्पिटल में ऑपरेशन के दौरान द्वारा एक महिला के पेट में सुई व रूई छोड़ने का मामला सामने आया है. महिला के पति ने बीएचयू के संबधित डॉक्टर पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए लंका थाने में तहरीर दी है. शिकायत पर जिला प्रशासन ने जांच शुरू कर दी है. वहीं एसएस हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन ने पूरे मामले को खारिज किया है.

2013 में शुरू हुआ मामला

चंदौली निवासी संजय की पत्नी रीना का पहली बार स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की सीनियर डॉक्टर की देखरेख में 2013 में सिजेरियन डिलेवरी हुई. आरोप है कि उस दौरान पेट में रूई छुट गई की, जिसे फिर से आपरेशन कर निकाला गया. इसके बाद रीना का दूसरा प्रसव ऑपरेशन जून 2015 में हुआ. साथ ही नसबंदी भी की गई. आरोप है कि ऑपरेशन से पहले हुए अल्ट्रा साउंड में सामान्य स्थिति थी. ऑपरेशन के करीब डेढ़ माह बाद उसको दर्द होने लगा तो उसने फिर से बीएचयू में दिखाया. आरोप है कि इस बार स्त्री एवं प्रसूति विभाग की डाक्टर ने सर्जरी का मामला बताते हुए सर्जरी विभाग में भेज दिया. यहां पर बताया गया कि गांठ है. बताया कि फिर यहां पर जब ऑपरेशन हुआ तो दो सुई निकली. फिर भी दर्द नहीं बंद हुआ. फिर मरीज को 29 जनवरी को जब अस्पताल गई तो मरीज से ही डॉक्टर्स ने कह दिया कि सुई अभी निकली नहीं निकली है. इसके कारण मरीज घबरा कर बेहोश हो गयी. जैसे-तैसे वह ओटी से बाहर आई, लेकिन परिजन को नहीं बुलाया गया. इसके कारण मरीजों को मानसिक, शारीरिक व आर्थिक शोषण से गुजरना पड़ा. इससे आजिज होकर जब पीडि़त के परिजनों ने शिकायत की तो प्रशासन हरकत में आ गया. सीएमओ व लंका पुलिस भी जांच में जुट गई है.

वर्जन

हमारे पास अभी कोई लिखित शिकायत नहीं आई है. शिकायत आने पर मामले की जांच कराई जाएगी.

- डॉ. ओपी उपाध्याय, एमएस एसएस हॉस्पिटल, बीएचयू