jamshedpur@inext.co.in

JAMSHEDPUR : बागबेड़ा थाना अंतर्गत बागबेड़ा कॉलोनी रोड नंबर एक निवासी किराना दुकानदार अशोक शर्मा को पिस्टल की नोक पर बंधक बनाकर तीन बदमाशों ने 10 लाख रुपए लूट लिए. जाते-जाते दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरा और बिजनेसमैन का मोबाइल भी अपने साथ लेकर फरार हो गए.

थाना में मामला दर्ज

पीडि़त अशोक शर्मा के बयान पर अज्ञात तीन लुटेरों के खिलाफ बागबेड़ा थाना में मामला दर्ज किया गया है. पीडि़त ने बताया कि रविवार देर रात करीब एक बजे मैं सो रहा था. तभी पीछे के दरवाजे की कुंडी तोड़कर तीन बदमाश घुसे जब तक हम कुछ समझते एक बदमाश मेरा गला दबाने लगा. जान बचाने के लिए मैने पैर से बदमाश को पीछे धक्ता मारा जिसके बाद तीनों ही मुझ पर टूट पड़े. एक डकैत ने पिस्तौल के बट से मेरे चेहरे पर कई वार किए, इसके बाद तीनों ने मिलकर पलंग से बांध दिया. उनमें से एक डकैत ने सिर पर पिस्टल तानते हुए जान से मारने की धमकी दी. पीडि़त ने बताया कि कि बाहर खड़े डकैत आवाज दे रहे थे कि जल्दी करो चार बजे ट्रेन है.

दोनों अलमारी तोड़ी

इसी बीच डकैतों ने दोनों अलमारियों को सब्बर से तोड़ दिया. इसके बाद आलमारी में रखे दो हजार, पांच सौ तथा दो सौ के नोट निकाल लिए. पीडि़त ने बताया कि डकैतों ने नोटों की गिनती की और सामने वाले गेट की चाबी मांगी. बाहर निकलते समय लकड़ी टाल के सामने सीसीटीवी कैमरा देखकर डकैत घबरा गए और पीछे की दरवाजे से निकल गए. पीडि़त के मुताबिक डकैत 10 लाख रुपये से अधिक की राशि लूट ले गए. अशोक शर्मा ने बताया कि उसकी बागबेड़ा स्थित डीबी रोड में राशन का दुकान है. इसमें रोज करीब 30 हजार रुपये की बिक्री होती है. वह डेढ़ माह से सारे पैसे आलमारी में एकत्र क र रहा था. पीडि़त ने बताया कि तबियत खराब होने के चलते महाजनों को पैसे नहीं दे पा रहे थे. घटना की जानकारी मिलते ही बागबेड़ा थाना प्रभारी लक्ष्मण प्रसाद, डीएसपी व अन्य पदाधिकारी अशोक शर्मा के घर जाकर जांच-पड़ताल में जुट गए. वहीं एसएसपी अनूप बिरथरे ने बताया कि वारदात रविवार की देर रात में हुई है.

चार कर्मचारी को उठाया

अशोक शर्मा का डीबी रोड स्थित राशन दुकान में काम करने वाले चारों कर्मचारियों को पुलिस ने पूछताछ के लिए उठाया है. जिसमें गणेशनगर निवासी राजू कुमार व लेदा यादव, बड़ौदा घाट निवासी बैजू तथा दिलीप शामिल है. बागबेड़ा थाना प्रभारी लक्ष्मण प्रसाद ने कहा है कि अपराधियों को पकड़ने के लिए छापेमारी की जा रही है. कुछ संदिग्ध लोगों को पकड़ कर पुलिस पूछताछ कर रही है.

जयपुर के रहनेवाले हैं अशोक

डकैती का शिकार बने दुकानदार अशोक शर्मा व पवन शर्मा दो भाई हैं. वह मूलरूप से जयपुर राजस्थान के रहने वाले हैं. अशोक शर्मा का माता-पिता जयपुर में ही रहते हैं. जबकि दोनों भाईयों में एक भाई जयपुर तो दूसरा जमशेदपुर में छह-छह माह के लिए रहते थे. वर्तमान समय में पवन शर्मा जयपुर में है.

बदमाशों को पकड़ने के लिए संभावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है. कुछ संदिग्धों से पुलिस पूछताछ भी कर रही है. जल्द ही मामले का खुलासा किया जाएगा और लुटेरे पुलिस की गिरफ्त में होंगे.

-अनूप बिरथरे, एसएसपी, जमशेदपुर