- लालू खेमे के कई को मिलेगी तरजीह

PATNA: अब तक अफसर भी खेमे में बंटे थे. लोग किसी को नीतीश खेमे का मानते थे तो किसी को लालू खेमे का. लेकिन अब दोनों तरफ खुशी का आलम है. क्योंकि लालू और नीतीश ही जब मिल गए तो फिर कहां रह गया यह भेद. लिहाजा, नई सरकार में कई बदलाव होंगे. लालू प्रसाद के प्रिय अफसर अभी से ही खुश हैं. नीतीश के प्रिय पात्र तो खुश हैं ही. सबसे बड़ा बदलाव पुलिस महकमें में होने की संभावना है. इंतजार है तो सिर्फ नीतीश कुमार के शपथ लेने का. यानी ख्0 तारीख के बाद कई प्रशासनिक बदलाव बिहार की राजनीति में दिखेंगे.

इन विभागों के अफसर बदल सकते हैं

वित्त, स्वास्थ्य,जल संसाधन, सिंचाई, शिक्षा, ऊर्जा ऐसे विभाग में जहां फेरबदल की खूब चर्चा है. कई निगमों, बोर्डो में भी अफसर बदले जाएंगे. चुनाव के समय आयोग ने कई अफसर को इधर से उधर किया गया था. उन्हें अब लालू-नीतीश सरकार में अच्छे पद मिलने की संभावना जतायी जा रही है. वैसे आईएएस और आईपीएस अफसर इंतजार में हैं. इसमें सबसे आगे जिनका नाम चल रहा है वह तत्कालीन होम सेक्रटरी आमिर सुबहानी हैं. सेन्ट्रल डिप्यूटेशन पर गए कई अफसरों की बिहार वापसी भी संभव है. सूत्रों की मानें तो इसकी कवायद भी तेज हो गई है.

मंत्रिमंडल में भी बड़े फेरबदल होंगे

बिहार सरकार के कई मंत्री दो-दो विभाग संभाल रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्री रामधनी सिंह टिकट नहीं मिलने से नाराज हो गए थे और जेडीयू छोड़ दिया था. वे विधान सभा चुनाव भी हार गए. उनका विभाग रामलषण राम रमण देख रहे थे. मंत्री रहे अवधेश कुशवाहा स्टिंग में फंस गए तो नीतीश कुमार ने उनसे इस्तीफा ले लिया. बैजनाथ सहनी को टिकट ही नहीं मिला था. मंत्री रमई राम, दुलाल चंद गोस्वामी, और मनोज कुशवाहा चुनाव हार चुके हैं. इस तरह आधे दर्जन से ज्यादा मंत्रीपद खाली हैं. जिन्हें भरना है. युवाओं को तरजीह देने की उम्मीद है.

इनका मंत्री बनना तय

ललन सिंह और पीके शाही से लालू प्रसाद की नाराजगी जगजाहिर है. लेकिन इन दोनों को मंत्रिमंडल से बाहर रखना इतना आसान नहीं होगा. इनके अलावे बिजेन्द्र प्रसाद यादव विजय कुमार चौधरी, श्याम रजक, श्रवण कुमार जैसे चेहरे मंत्रिमंडल में रहेंगे ही. बिजेन्द्र प्रसाद यादव को और ज्यादा महत्वपूर्ण जवाबदेही दी जा सकती है. लालू प्रसाद के बेटों के बारे में तो पहले से ही चर्चा है कि वे जीतेंगे तो मंत्री बनेंगे ही.

आरजेडी से ये पा सकते हैं मंत्री पद

अब्दुलबारी सिद्दीकी को महत्वपूर्ण जिम्मेवारी मिलने की उम्मीद है. इसी तरह इलियास हुसैन, शिवचंद्र राम, मुद्रिका सिंह यादव और भोला यादव को भी मंत्री बनाया जाना लगभग तय माना जा रहा है.

कांग्रेस से भी मंत्री बनेंगे

कांग्रेस के सीनियर नेता सदानंद सिंह को लालू-नीतीश की सरकार में महत्वपूर्ण जवाबदेही दिए जाने की उम्मीद है. प्रदेश अध्यक्ष अशोक चौधरी, अशोक राम, विजय शंकर दूब जैसे नेताओं को मंत्री पद मिलना तय माना जा रहा है.

सात निश्चय पर रहेगी खास नजर

चुनाव के समय जिस विजन की बात नीतीश कुमार ने की थी और सत्ता में आने पर उसे जमीन पर उतारने का वायदा किया था उसमें नीतीश कुमार अपनी पूरी ताकत लगाएंगे. इसके लिए अलग महकमा भी वे बना सकते हैं. इसमें खास तौर से युवाओं को क्रेडिट कार्ड और शिक्षा ऋण पर फोकस होगा.