PATNA: बिहार म्यूजियम को लोपाज डिजाइन के लिए विश्व प्रसिद्ध 'आइएफ' डिजाइन अवार्ड प्रदान किया गया ह. इसके पहले 2016 में बिहार म्यूजियम को उसकी पुस्तिका 'आइ एम बिहार' को विश्व प्रतिष्ठित क्यूरियस इन बुक अवार्ड प्रदान किया गया था.

लोपाज डिजाइन ने विश्व प्रसिद्ध 'आइएफ' डिजाइन अवार्ड के लिए आइडेंटिटी, ब्रांडिंग और कॉरपोरेट कम्युनिकेशन कैटेगरी में आवेदन दिया था. यहां बता दें कि आइएफ डिजाइन अवार्ड विश्व का सबसे प्रतिष्ठित अवार्ड ह. जिसकी स्थापना विश्व के सबसे पुराने स्वतंत्र डिजाइन संगठन आइएफ इंटरनेशनल फोरम डिजाइन जीएमबीएच ने की थी. इस संगठन का मुख्यालय हनोवा (जर्मनी) में है.

6 हजार 400 आवेदन मिले

इस वर्ष संगठन को अवार्ड के लिए कुल छह हजार चार सौ आवेदन मिले थे. अंतरराष्ट्रीय जूरी के 63 सदस्यों ने सभी का सूक्ष्म अध्ययन करने के बाद विजेता प्रविष्टि का चयन किया और बिहार म्यूजियम को उसकी डिजाइन के लिए यह अवार्ड दिया गया.

पहले भी मिल चुका है अवॉर्ड

इसके पहले बिहार म्यूजियम को उसकी पुस्तिका आइ एम बिहार के लिए क्यूरियस इन बुक अवॉर्ड प्रदान किया गया था. डी एंड एडी के सहयोग से 2014 में स्थापित क्यूरिस डिजाइन अवार्ड चाक्षुश कला एवं संचार के क्षेत्र में योगदान के लिए दिया जाता ह. विश्व के विशेषज्ञों द्वारा क्यूरिस अवार्ड के तहत दो तरह के अवार्ड दिए जाते हैं. क्रियेशन के लिए ब्लू एलिफेंट अवार्ड और सृजनात्मक उपलब्धि के लिए इन बुक अवार्ड. बिहार म्यूजियम को 2016 में आइ एम बिहार पुस्तिका की सृजनात्मक उपलब्धि के लिए इन बुक अवार्ड दिया गया. पटना म्यूजियम की नींव मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पहल पर रखी गई जिसकी सराहना देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ ही कई नामी हस्तियां कर चुकी हैं.