- 9 लाख उपभोक्ता लेसा क्षेत्र में

- 62 बिलिंग सेंटर्स लखनऊ में

- 150-180 के करीब बिलिंग सेंटर्स पूरे डिस्कॉम में

- 19 जिले आते हैं मध्यांचल डिस्कॉम में

- सर्वर प्रॉब्लम के कारण हर माह उपभोक्ता होते हैं परेशान

- मध्यांचल एमडी समस्या दूर करने को तैयार करा रहे रणनीति

abhishekmishra@inext.co.in

LUCKNOW: बस कुछ दिन का इंतजार, फिर आपको बिल जमा करने में सर्वर की समस्या से रूबरू नहीं होना पड़ेगा. इसकी वजह यह है कि उपभोक्ताओं की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए बिलिंग सेंटर्स में आने वाली सर्वर की प्रॉब्लम को दूर करने के लिए मध्यांचल एमडी की ओर से कवायद शुरू कर दी गई है. इस समस्या को दूर करने के लिए आईटी सेल को निर्देश जारी किए जा चुके हैं.

हर महीने समस्या

शहर में करीब 62 बिलिंग सेंटर्स हैं. इन सभी बिलिंग सेंटर्स के सहारे उपभोक्ता अपना बिजली बिल जमा करते हैं. आलम यह है कि करीब तीस से चालीस फीसदी बिलिंग सेंटर्स में सर्वर की समस्या सामने आती है. जिसकी वजह से उपभोक्ता समय से अपना बिजली बिल जमा नहीं कर पाते हैं. समय से बिल न जमा कर पाने के कारण उपभोक्ताओं को लेट फीस का भी सामना करना पड़ता है. उपभोक्ताओं द्वारा सर्वर की शिकायत तो दर्ज कराई जाती है, लेकिन कोई ठोस कदम सामने नहीं आता है.

दोपहर 12 के बाद स्थिति खराब

उपभोक्ताओं की ज्यादातर शिकायतें रहती हैं कि सुबह के समय तो सर्वर ठीक तरह से चलता है, लेकिन जैसे ही दोपहर के 12 बजते हैं, उसके बाद सर्वर की समस्या शुरू हो जाती है. कई बार तो बिजली बिल तो जमा हो जाते हैं, लेकिन उपभोक्ताओं को रिसीविंग नहीं मिल पाती है. इसकी वजह से उपभोक्ताओं के मन में संशय की स्थिति बनी रहती है कि उनका बिल जमा हुआ है कि नहीं. बिलिंग सेंटर्स पर भी उपभोक्ताओं द्वारा इस संबंध में जानकारी हासिल करने का प्रयास किया जाता है, लेकिन कोई सटीक जवाब नहीं मिल पाता है. इसकी वजह से उपभोक्ता अगले माह आने वाले बिजली बिल का इंतजार करने के लिए मजबूर होते हैं.

दूर होगी सर्वर की समस्या

मध्यांचल एमडी ने खुद सर्वर से जुड़ी आ रहीं शिकायतों को संज्ञान में लिया है. मामले की गंभीरता को देखते हुए उन्होंने इस संबंध में आईटी सेल से बातचीत की. इस दौरान यह जानकारी सामने आई है कि एक दो प्वाइंट्स पर सर्वर ठीक काम नहीं कर रहा है. उन्होंने आईटी सेल के निर्देश दिए हैं कि हर हालत में जल्द से जल्द सर्वर की समस्या को दूर करने के लिए कदम उठाए जाएं, जिससे उपभोक्ताओं के बिल समय से जमा हो सकें और उन्हें रिसीविंग भी मिल सके.

ऑनलाइन प्रोसेस को लेकर भी होमवर्क

उपभोक्ताओं को एक और भी समस्या का सामना करना पड़ रहा है. अगर किसी उपभोक्ता ने बिल जमा किया और वह ऑनलाइन प्रोसेस से जाकर जमा किए गए बिजली बिल के बारे में जानकारी हासिल करना चाहता है तो उसे कोई जानकारी नहीं मिल पाती है. ऑनलाइन प्रोसेस से वह सिर्फ कितना बिल आया, उसके बारे में ही जानकारी हासिल कर पाता है. इस समस्या को दूर करने के लिए भी एमडी की ओर से जल्द ही अधिकारियों के साथ बैठक की जाएगी. जिससे हर उपभोक्ता ऑनलाइन प्रोसेस से यह जान सके कि उसने बिजली बिल के रूप में कितनी धनराशि जमा की है.

वर्जन

यह बात सही है कि बिलिंग सेंटर्स पर सर्वर की समस्या आती है. इस समस्या को दूर करने के लिए आईटी सेल को निर्देश जारी किए जा चुके हैं. जल्द ही उपभोक्ताओं को इस समस्या से राहत मिल जाएगी.

संजय गोयल, एमडी, मध्यांचल विद्युत वितरण निगम लि.