- जैविक खाद बनाने के लिए लगाए गए हैं 10 पार्को में कंपोस्ट प्लांट

- 10 रुपए किलो बेची जाएगी जैविक खाद

देहरादून, नगर निगम की जैविक खाद योजना आखिरकार सफल रही. योजना को लेकर नगर निगम और वेस्ट वारियर सोसायटी के बीच मार्च में अनुबंध किया गया था. दोनों के साझा प्रयास से तीन माह में 1 हजार किलो जैविक खाद तैयार कर ली गई है. अब इसकी मार्केंिटंग शुरू की जाएगी. बताया गया है कि किसानों को 10 रुपए प्रति किलो के हिसाब से खाद बेची जाएगी, इससे होने वाली आमदनी निगम के कोष में जमा होगी.

ऐसे तैयार की जा रही खाद

जैविक खाद बनाने के लिए पत्तों का इस्तेमाल किया जा रहा है. पेड़ से झड़ने वाले पत्तों को इकट्ठा कर पहले सुखाया जाता है, फिर कंपोस्ट प्लांट में डालकर तीन माह के लिए पैक कर दिया जाता है. बीच-बीच में मशीनों के जरिए खाद को बारीक किया जाता है, जिसके बाद जैविक खाद तैयार होती है.

एक प्लांट पर 17 हजार रु. खर्चा

जैविक खाद तैयार कर रही कंपनी से मिली जानकारी के मुताबिक एक कम्पोस्ट प्लांट को तैयार करने में 17 हजार 670 रुपए का खर्चा आया है. इसमें से 17 हजार 100 रुपए प्लांट को लगाने व 570 रुपए ट्रीटमेंट पर खर्चा होता है.

10 पार्को में लग चुके कम्पोस्ट प्लांट

- श्यामाप्रसाद मुखर्जी पार्क, राजपुर

- दून विहार पार्क, जाखन

- सालावाला पार्क, हाथी बड़कला

- राजेन्द्र नगर पार्क, किशन नगर

- गांधी पार्क

- पंडित दीन दयाल पार्क

- डिफेन्स कॉलोनी पार्क

- केदारपुरम पार्क

- एच- ब्लॉक पार्क, नेहरू कॉलोनी

- बसंत विहार

-----------------

10 पार्को में कम्पोस्ट प्लांट लगाए गए हैं. एक हजार किलो खाद अब तक तैयार की जा चुकी है. 10 रुपए के हिसाब से खाद किसानों को उपलब्ध कराई जाएगी. खाद से होने वाली आमदनी निगम के राजकोष में जमा होगी.

नवीन कुमार सडाना, मैनेजर, वेस्ट वारियर्स सोसाइटी

----------------

कम्पोस्ट प्लांट लगाने को लेकर कंपनी के बीच अनुबंध हुआ था. निगम के हर पार्क में प्लांट को लगाने का फैसला लिया गया था.

विनोद चमोली, निवर्तमान मेयर