JAMSHEDPUR: राज्य सरकार के निर्देश पर कोल्हान यूनिवर्सिटी (केयू) के दो प्रीमियर कॉलेज के स्टूडेंट्स की हाजिरी बायोमीट्रिक सिस्टम से होगी. इसके लिए विश्वविद्यालय ने भी अपनी तैयारी शुरू कर दी है. तीन अप्रैल को इस मामले में बैठक होनी है. टाटा कॉलेज चाईबासा और को-ऑपरेटिव कॉलज जमशेदपुर के स्टूडेंट्स की बायोमीट्रिक हाजिरी सुनिश्चित करने के लिए वहां के प्राचार्यो के साथ बैठक भी विश्वविद्यालय आयोजित करने वाला है. मालूम हो कि हाल ही सभी वीसी के साथ उच्च शिक्षा विभाग ने बैठक आयोजित की थी. इसमें विश्वविद्यालय को पेपरलेस करने और छात्रों की बायोमीट्रिक हाजिरी बनाने पर जोर दिया गया. अप्रैल से इस दिशा में कार्य प्रारंभ करने को कहा गया है और कृत कार्रवाई प्रतिवेदन से भी अवगत कराने को कहा है. इस बाद केयू की ओर से इन दो कॉलेजों के नाम तय कर दिए गए.

क्वोट-

-विश्वविद्यालय ने टाटा कॉलेज चाईबासा और को-ऑपरेटिव कॉलेज विद्यार्थियों की हाजिरी बायोमीट्रिक से कराने का निर्णय लिया है. इस पर बैठक विवि के खुलने के बाद होगी.

- डॉ. एके झा, प्रवक्ता, केयू

केयू घोटालों की गूंज पीएमओ तक

कोल्हान यूनिवर्सिटी (केयू) में प्रकाश में आये पीएचडी घोटाले, किताब घोटाले तथा भवन निर्माण घोटालों की गूंज प्राइम मिनिस्टर ऑफिस (पीएमओ) तक पहुंच गई है. इस मामले में दो-दो छात्र संगठन ने पीएमओ पोटर्ल पर शिकायत दर्ज करायी है. झारखंड छात्र मोर्चा और अभाविप द्वारा दर्ज शिकायत में बारी-बारी से घोटालों का जिक्र करते हुए विश्वविद्यालय की अब तक की कार्रवाई, चुप्पी तथा अखबारों में प्रकाशित समाचारों की कटिंग भी संलग्न की गई है.

कदाचार मुक्त परीक्षा पर विवि का ध्यान

कोल्हान यूनिवर्सिटी (केयू) में चल रहे यूजी प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा के सफलतापूर्वक संचालन के लिए विश्वविद्यालय ने अपनी पूरी तैयारी कर रखी है. खासकर परीक्षा विभाग कदाचार मुक्त परीक्षा के लिए लगातार नजर रख रहा है. परीक्षा नियंत्रक डॉ. पीके पाणि के नेतृत्व में उड़नदस्ता की टीम लगातार कॉलेजों को बिना बताये ही परीक्षा केंद्र का औचक निरीक्षण कर रही है और इसकी रिपोर्टिग सीधे परीक्षा नियंत्रक को कर रही है.