CHAIBASA: अब कोल्हान यूनिवर्सिटी (केयू) के सभी कॉलेजों के छात्रों की हाजिरी भी बायोमीट्रिक मशीन से होगी. इसके लिए फ‌र्स्ट फेज में प्रीमियर कॉलेज और सभी इंजीनिय¨रग कॉलेज व मेडिकल कॉलेज को चुना गया है. इन कॉलेजों में बायोमीट्रिक्स मशीन मार्च तक लगा लेने का निर्देश दिया गया है. अप्रैल से छात्रों की हाजिरी बायोमीट्रिक मशीन से ही बनेगी. फ‌र्स्ट फेज का काम पूरा होने के बाद इसे अन्य कॉलेजों में भी लागू किया जाएगा.

ये बातें केयू की वीसी डॉ शुक्ला माहांती ने कोल्हान के कॉलेजों के प्रिसिपल्स को संबोधित करते हुए कहीं. चाईबासा स्थित केयू मुख्यालय में गुरुवार को वीसी की अध्यक्षता में कंस्टीचुएंट व एफिलिएटेड कॉलेजों के प्रिंसपल्स की मीटिंग हुई. इसमें कई निर्णय लिए गए. इसमें मुख्य रूप से सुरक्षा, कॉलेज में शौचालय व पेयजल समस्या, नैक, बायोमीट्रिक हाजिरी पर विचार-विमर्श किया गया. वीसी ने कहा कि प्रत्येक कॉलेज में आधार इनेबल बायोमीट्रिक मशीन हर हाल में फरवरी तक लगा लिया जाए और इसे गवर्नर की तस्वीर के साथ भी लिंक कराया जाए, ताकि जरूरत पड़ने पर गवर्नर सह चांसलर भी कॉलेज में शिक्षकों की स्थिति व कक्षाओं की स्थिति का पता लगाया जा सके.

एकेडमिक ऑडिट का निर्देश

वीसी ने कॉलेजों के प्राचार्यो को हर हाल में मार्च तक एकेडमिक ऑडिट कराने का निर्देश दिया. इस एकेडमिक ऑडिट में शिक्षकों का छात्रों के साथ व्यवहार कैसा है, कक्षाएं चल रहीं हैं या नहीं, छात्रों के सुझाव भी इसमें शामिल होंगे. इसे सर्वोच्च प्राथमिकता देने को कहा गया है और कार्य में किसी तरह की कोताही नहीं बरतने को कहा गया है.

फ‌र्स्ट फेज में ये कॉलेज

को-ऑपरेटिव कॉलेज, टाटा कॉलेज चाईबासा, एमजीएम मेडिकल कॉलेज, अवध डेंटल कॉलेज, आरवीएस इंजीनिय¨रग कॉलेज, बीए इंजीनिय¨रग कॉलेज, मेरीलैंड इंजीनिय¨रग कॉलेज, चाईबासा इंजीनिय¨रग कॉलेज.

इनकी रही मौजूदगी

बैठक में प्रोवीसी डॉ रणजीत कुमार सिंह, कुलसचिव डॉ एसएन सिंह, वित्त सलाहकार मधूसूदन, सीसीडीसी डॉ जेपी मिश्रा, वित्त अधिकारी सुधांशु कुमार, प्रॉक्टर डॉ एके झा सहित लगभग 30 कॉलेज के प्राचार्य उपस्थित थे.