क्त्रन्हृष्ट॥ढ्ढ: एयर ट्रैवल करने वाले हजारों यात्रियों की जान हर दिन दांव पर है और नगर निगम से लेकर एयरपोर्ट प्रबंधन तक मामले में पल्ला झाड़ने लगा है. एयरपोर्ट पर लगातार बर्ड हीट के मामले बढ़ते जा रहे हैं. शुक्रवार को भी पटना एयरपोर्ट पर बर्ड हिट का मामला सामने आया है और विगत 6 महीने से लगातार रांची एयरपोर्ट की फ्लाईट्स पर भी बर्ड हिट का खतरा बढ़ गया है. विगत कुछ महीनों के भीतर कई बार पक्षी के विमान से टकराने की खबरें आती रहीं लेकिन सुरक्षा के कोई व्यापक प्रबंध नहीं किए गए. इस कारण कभी भी बड़ा हादसा हो सकता है. एयरपोर्ट परिसर के ठीक बाहर होटलों से लेकर तमाम तरह के कारोबारी सक्रिय हैं. मीट, मांस, मुर्गा, मछली, अंडा समेत हर तरह के खाद्य पदार्थो का बाजार लगता है. इस कारण पक्षियों का खतरा उस इलाके में बढ़ता जा रहा है. इस संबंध में जिला प्रशासन और एयरपोर्ट अथॉरिटी द्वारा कई बार अभियान चलाया गया, लेकिन कोई समाधान नहीं निकला.

एयरपोर्ट रनवे के पास ही बाजार

एयरपोर्ट रनवे जिस मैदान में है वो दोनों तरफ से सड़क से सटा हुआ है. वहां प्रतिदिन हर तरह के खाद्य पदार्थो का बाजार लगता है. एयरपोर्ट सुरक्षा के तमाम नियमों को ताक पर रखकर लगाया जा रहा यह बाजार हर दिन दुर्घटना को न्योता दे रहा है.

ऊंचे भवनों से घिरता एयरपोर्ट

बिरसा चौक से हवाई नगर जाने वाली सड़क ठीक रनवे मैदान से सटी हुई है. इस मैदान में जी प्लस 4 भवनों का नक्शा पास किया जा रहा है. एयरपोर्ट और विमान की सुरक्षा की दृष्टि से इस एरिया में इतने ऊंचे भवनों को अनुमति नहीं मिलनी चाहिए, लेकिन नगर निगम की सांठगांठ से यह काम जबरदस्त तेजी से चल रहा है.

इमारतों की छतों पर पक्षियों का डेरा

इन ऊंचे भवनों, अपार्टमेंट्स, होटल आदि की छतों पर पक्षियों का जमघट लगा रहता है. पक्षियों ने बकायदा अपना डेरा जमा लिया है जहां सैकड़ों की संख्या में ये नजर आते हैं. इन्ही पक्षियों का झुंड अक्सर उड़ते हुए रनवे पर विमान से टकरा जाता है.

लैंडिंग व टेक ऑफ में नीचे आ जाता है विमान

लैंडिंग और टेक ऑफ के दौरान विमान की ऊंचाई जमीन से काफी नीचे रहती है. इस कारण इन चार फ्लोर वाले भवनों की छतों से विमान काफी नजदीक से गुजरता है. इस दौरान बर्ड हिट का खतरा ज्यादा बढ़ जाता है.

वर्जन

एयरपोर्ट परिसर के बाहर की जिम्मेदारी जिला प्रशासन की है. हमलोगों द्वारा लगातार उन्हें इस संबंध में अलर्ट किया जाता रहा है. कई बार हमारी टीम ने इन मांस-मछली मार्केट वालों को वहां से खदेड़ा भी है, लेकिन उसके बावजूद फिर से बाजार लग जाते हैं, जो गलत है. इसे रोका जाना चाहिए.

प्रभात बेवरिया, डायरेक्टर, रांची एयरपोर्ट

सड़क के किनारे दुकान लगाने वालों के खिलाफ लगातार कार्रवाई की जाती है फिर भी ये लोग दुकान लगाने लगते हैं. एयरपोर्ट के समीप से अवैध दुकानों को चिन्हित कर स्थायी रूप से हटाया जाना चाहिए.

अमन कुमार, सिटी एसपी, रांची

समय-समय पर कार्रवाई की जाती रही है. उसके बावजूद भी ये लोग अवैध तरीके से दुकान लगा देते हैं. नगर निगम लगातार इनको नोटिस देता रहा है और छापामारी के साथ-साथ जब्ती की कार्रवाई भी होती है. जल्द ही फिर से कड़ी कार्रवाई होगी.

रामकृष्ण कुमार, सहायक कार्यपालक पदाधिकारी, आरएमसी