- प्रभारी मंत्री ब्रजेश पाठक के साथ लखनऊ में हुई मीटिंग के बाद फरहत ने दी जानकारी

-उत्तराखंड की मंत्री से वार्ता के बाद अब निदा के लिए दिल्ली से बुलावे का इंतजार

<द्गठ्ठद्द>क्चन्क्त्रश्वढ्ढरुरुङ्घ<द्गठ्ठद्दद्गठ्ठस्त्र> :

ट्रिपल तलाक, हलाला और बहुविवाह के खिलाफ मोर्चा खोलने वाली मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी भी बीजेपी में जिम्मेदारी संभाल सकती है. बरेली के प्रभारी मंत्री ब्रजेश पाठक के साथ थर्सडे को हुई फरहत नकवी की बैठक में यह साफ हो गया है कि उन्हें भी बीजेपी में कोई पद मिल सकता है. फिलहाल अभी इस बात पर बीजेपी की तरफ से मुहर लगना बाकी है. वहीं निदा खान के बीजेपी में पद मिलने की चर्चा के बाद फरहत नकवी के बीजेपी में पद मिलने की चर्चा शुरू हो गई है.

महिला संबंधी मिले जिम्मेदारी

अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन से वेडनसडे को वार्ता के बाद थर्सडे सुबह फरहत नकवी की बरेली के प्रभारी एवं कानून मंत्री ब्रजेश पाठक से मीटिंग हुई. फरहत ने बताया कि जिसमें मंत्री से उनकी पार्टी में शामिल होकर काम करने की बात हुई थी. लेकिन फरहत ने इस बात पर कहा कि वह पीडि़त महिलाओं के लिए संस्था बनाकर काम कर रही हैंऔर करती रहेंगी. पार्टी में उन्हें यदि महिलाओं संबंधी जिम्मेदारी मिलती है तो वह जरूर शामिल होगी. ताकि वह सरकार की मिली जिम्मेदारी को निभाने के साथ पीडि़त महिलाओं के लिए भी काम कर सकें.

आयोग ने नहीं के लिए नहीं की काेई व्यवस्था

मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी ने आरोप लगाया कि अल्पसंख्यक आयोग ने पीडि़त महिलाओं को बुला तो लिया. वहां पर महिलाओं के लिए पानी तक की व्यवस्था नहीं की. जिससे महिलाओं को प्रॉब्लम फेस करनी पडी. जबकि तीन घंटे तक महिलाओं को प्रेस कॉन्फ्रेंस में खड़े होकर अपनी बतानी पड़ी, जिसमें वह भी पीडि़ताओं के साथ पूरे समय मौजूद रही, लेकिन आयोग ने जारी विज्ञप्ति में उनका नाम ही गायब कर दिया गया. वहीं, फरहत नकवी ने कहा कि वह आखिरी सांस तक रजिया को न्याय दिलाने के लिए लडे़गी और सुप्रीम कोर्ट में भी याचिका दायर करेंगी.

पीडि़ताओं को मिलेगा न्याय: आयोग

अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन तनवीर हैदर उस्मानी के पास वेडनसडे को शहर से पीडि़ताओं को लेकर आला हजरत हेल्पिंग सोसायटी की अध्यक्ष निदा खान और मेरा हक फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी पहुंची थी, जिसमें फरहत के साथ मुरादाबाद की ट्रिपल तलाक और हलाला पीडि़ता रजिया भी थी. जबकि निदा खान के साथ फातिमा नूरी, अफरोज, फूल सबा और रूहिमा भी थी. अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन ने सभी पीडि़ताओं से अलग-अलग समस्या सुनी और संबंधित डिस्ट्रिक्ट के डीएम को फोन कर कार्रवाई के निर्देश भी दिए. उन्होंने कहा कि सरकार महिलाओं के लिए काम रही है, तो महिलाओं की समस्याएं भी सुनी जाएंगी.

===

निदा बोलीं बुलावे का इंतजार

आलाहजरत हेल्पिंग सोसायटी की अध्यक्ष निदा खान ने बताया कि उत्तराखंड की मंत्री रेखा आर्य से बातचीत हुई है, लेकिन अभी दिल्ली से उनके लिए कोई बुलावा नहीं आया है. बुलावा आने के बाद ही वह दिल्ली के लिए जाएंगी. फिलहाल अभी पार्टी की तरफ से कोई मैसेज नही है.