-विधायक समर्थकों ने चौकी इंचार्ज और सिपाही पर मारपीट और लूट की दर्ज कराई एफआईआर

-चौकी इंचार्ज की तहरीर पर विधायक समर्थकों पर एससी-एसटी एक्ट की दर्ज की रिपोर्ट

BAREILLY: कैंट के बभिया चौकी में रात में बीजेपी वर्कर्स और चौकी इंचार्ज के बीच हुआ विवाद गहरा गया है. यूं कहें तो बीजेपी वर्कर्स और पुलिस आमने-सामने आ गई और मामला एफआईआर तक पहुंच गया है. जहां बिथरी चैनपुर विधायक पप्पू भरतौल के समर्थक ने चौकी इंचार्ज और सिपाही पर चेकिंग के नाम पर मारपीट और लूट की एफआईआर दर्ज कराई है, तो फिर पुलिस ने शिकंजा कसने के लिए बीजेपी वर्कर्स पर चौकी इंचार्ज की तहरीर पर एससी-एसटी एक्ट और लूट की धाराओं में एफआईआर दर्ज करा दी है. देर रात इसमें समझौते के प्रयास चल रहे थे और विधायक पप्पू भरतौल भी मौके पर पहुंचे थे. अब मामला आगे तूल पकड़ सकता है.

चौकी इंचार्ज व सिपाही ने की लूट

बीजेपी वर्कर अनिल शर्मा का आरोप है कि वह रात में इमरान और उमेश शर्मा के साथ दुकान से पूजा का सामान लेने जा रहा था. इसी दौरान नवी नगर के पास चौकी इंचार्ज सतपाल ने उसकी बाइक के सामने अपनी बाइक लगा दी और चेकिंग करने लगे. जब उसने सामान लेने की बात बताई तो चौकी इंचार्ज ने कागज मांगे और फिर चौकी में ले गए. यहंा दो सिपाहियों से पकड़वाकर जमकर पीटा और 20 हजार रुपए भी छीन लिए. पुलिस ने अनिल शर्मा की तहरीर पर चौकी इंचार्ज व सिपाही के खिलाफ आईपीसी की धारा 392, 342, 323, 504, 506 के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है.

बीजेपी वर्कर्स पर एससीएसटी का केस

वहीं बभिया चौकी इंचार्ज सतपाल सिंह की ओर से अनिल शर्मा, इमरान, उमेश शर्मा, प्रमोद शर्मा, कामेश्वर, घनश्याम शर्मा, देवेन्द्र, महेन्द्र शर्मा व अज्ञात के खिलाफ लूट, सरकारी कार्य में बाधा डालना, मारपीट, जातिसूचक गालियां देने, तोड़फोड़ करने आदि 11 धाराओं में मुकदमा दर्ज किया है. चौकी इंचार्ज सतपाल का आरोप है कि वह सोमवार की शाम को नवीनगर में गश्त कर रहे थे. इसी दौरान एक बाइक पर तीन लोग सवार थे. बकौल चौकी इंचार्ज अनिल शर्मा ने अभद्रता करनी शुरू कर दी. जातिसूचक गालियां देते हुए कहा यहां से चले जाओ वरना पहचानना मुश्किल हो जाएगा. इसके बाद उक्त लोग वर्दी खींचने लगे. पिस्टल छीनने का प्रयास किया गया. किसी तरह वह बचकर चौकी पहुंचे. उक्त लोग चौकी पर आ गए. अंदर कमरे में घुस गए. वर्दी की जेब में रखे 40 हजार रुपये निकाल लिए. मेज तोड़ दी. इसके बाद सभी को जाने से मारने की धमकी देते हुए चले गए. दारोगा ने यह भी बताया कि 40 हजार रुपये उसने सुबह ही बैंक से बच्चों की फीस व खर्चे के लिए निकाले थे.

पुलिस को जो तहरीर मिली थी, उसके मुताबिक एफआईआर दर्ज की गई हैं. दोनों पक्षों के एक दूसरे पर आरोप हैं. विवेचना के आधार पर गिरफ्तारियां की जाएंगी.

मुनिराज जी, एसएसपी