patna@inext.co.in

PATNA : मुजफरपुर बालिका गृह यौन उत्पीड़न का प्रमुख आरोपी और काली कमाई के कुबेर ब्रजेश ठाकुर पर सीबीआई का शिकंजा कसना शुरू हो गया है. सीबीआई ने उसकी करोड़ों की संपत्ति की जांच शरू कर दी है. ब्रजेश ठाकुर ने काली कमाई से मुजफ्फरपुर और पटना से लेकर दिल्ली तक करोड़ों रुपए की संपत्ति बनाई है. ब्रजेश ठाकुर ने पिछले पांच वर्षों में करोड़ों की चल और अचल संपत्ति अर्जित की है. सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ब्रजेश की संपत्ति का पता लगाने में जुटे हैं.

फर्जी नाम से हैं कई बैंक खाते

मुजफ्फरपुर पुलिस ने इस मामले में अपनी सुपरविजन रिपोर्ट में इसकी चर्चा भी की है. सीबीआई को यह रिपोर्ट मिल गई है. रिपोर्ट में कहा गया है कि ब्रजेश ठाकुर के फर्जी एनजीओ में उसके सगे-संबंधियों को ही वेतन भोगी कर्मचारी बना रखा था. उसका यह धंधा सिर्फ मुजफ्फरपुर बालिका गृह और महिला शेल्टर होम में ही नहीं, समस्तीपुर के वृद्धाश्रम में भी कायम था. उसने फर्जी नामों से कई बैंक खाते भी खोल रखे हैं. इस सुपरविजन रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि उसने एनजीओ के नाम से करोड़ों रुपए बनाए हैं. जिससे न केवल मुजफ्फरपुर में बल्कि पटना, दिल्ली, समस्तीपुर दरभंगा और बेतिया में भी करोड़ों की अचल संपत्ति अर्जित की है. सीबीआई के हाथ लगी इस सुपरविजन रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि उसकी इस काली कमाई में न केवल विभिन्न महकमो के आला अधिकारी बल्कि कई बैंकर्स भी शामिल हैं.

मददगार इंस्पेक्टर निलंबित

स्वाधार केंद्र से 11 महिलाओं और चार बच्चों के गायब होने के मामले में पुलिस ऑफिस के मानव व्यापार निरोधक शाखा में तैनात पुलिस इंस्पेक्टर विनोद कुमार को निलंबित कर दिया गया है. लापरवाही सामने आने के बाद एसएसपी हरप्रीत कौर ने तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया. इंस्पेक्टर भी निरीक्षण टीम में शामिल थे. 20 मार्च को समाज कल्याण विभाग की तरफ से स्वाधार केंद्र की जो जांच की गई थी, उसमें फाइल पर उनका भी साइन है. इसकी जांच कराई गई तो पता चला कि उन्होंने गए बिना ही फाइल पर साइन कर दिया. अगर, वे निरीक्षण में जाते थे तो उन्होंने स्वाधार केंद्र की गड़बडि़यों से वरीय अधिकारियों को क्यों नहीं अवगत कराया. इन सभी मामलों को लेकर उन्हें निलंबित किया गया है.

सीबीआई ने मांगा दस्तावेज

बालिका गृह यौन उत्पीड़न कांड की जांच कर रही आइओ विभा कुमारी के आवेदन पर विशेष पॉक्सो कोर्ट ने मामले से संबंधित कागजात (ट्रू कॉपी) सीबीआई को सौंपने का निर्देश दिया. उन्होंने मंगलवार को कोर्ट को आवेदन सौंप कर उक्त मामले में पुलिस में दर्ज प्राथमिकी व अनुसंधान के बाद सौंपी गई केस डायरी व चार्जशीट की सच्ची प्रतिलिपि ट्रू कॉपी उपलध कराने की प्रार्थना की.