aditya.jha@inext.co.in

PATNA: किसी भी परीक्षा में पास और फेल होना तो आपने सुना होगा लेकिन बिहार विद्यालय परीक्षा समिति ने एक और कारनामा कर दिखाया जिसे सुनकर आप भी दंग रह जाएंगे. बिहार बोर्ड ने स्टूडेंट्स के रिजल्ट को कोरा कागज बना दिया है. रिजल्ट में सिर्फ स्टूडेंट का नाम, रोल नंबर सहित अन्य जानकारियां हैं लेकिन इसमें न तो विषय का नाम है और न ही प्राप्तांक. जबकि ये वैसे स्टूडेंट्स हैं जिन्होंने रेगुलर पढ़ाई की है और अपनी हर परीक्षा में उपस्थित रहे. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट के पास ऐसे सैकड़ों केस आए हैं जिसमें बिहार बोर्ड ने स्टूडेंट्स के साथ खुलकर मनमानी की है.

रिजल्ट में विषय का नाम नहीं

इंटरमीडिएट वार्षिक परीक्षा 2018 में बिहार के सैकड़ों स्टूडेंट्स के अंक पत्र में रोल नंबर और रोल कोड के अलावा एक भी विषय की जानकारी नहीं दी गई है. बोर्ड ने स्टूडेंट्स को न तो फेल किया और न ही पास बल्कि अबसेंट दिखाकर ?लैंक रिजल्ट जारी कर दिया. ऐसे में स्टूडेंट्स न तो कंपार्टमेंटल परीक्षा दे पा रहे हैं और न ही स्क्रूटनी के लिए आवेदन कर पाएंगे.

इंटर काउंसिल में प्रवेश पर रोक

बिहार इंटर काउंसिल कार्यालय और बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के कार्यालय में 20 जून तक स्टूडेंट्स के प्रवेश पर रोक लगा दिया गया है. दैनिक जागरण आई नेक्स्ट से बात करते हुए चंपारण से आए रमेश ने बताया कि अंक पत्र में सुधार करवाने के लिए पिछले 6 दिनों से इंटर काउंसिल का चक्कर काट रहा हूं लेकिन गेट पर तैनात कर्मचारी मुझे किसी से भी मिलने नहीं दे रहे हैं. ऐसे में भविष्य संकट में आ गया है.

स्टूडेंट्स ने किया जमकर प्रदर्शन

मंगलवार को ?लैंक रिजल्ट को सुधारने के लिए सैकड़ों स्टूडेंट इंटर काउंसिल कार्यालय जैसे ही पहुंचे तो पुलिस बल द्वारा उन्हें एंट्रेंस गेट पर रोक दिया गया. इस दौरान स्टूडेंट्स ने इंटर रिजल्ट में हुई गड़बड़ी को लेकर इंटर काउंसिल गेट पर जमकर प्रदर्शन किया. साथ ही स्टूडेंट्स ने बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर को पद से त्याग पत्र देने की मांग की. इस दौरान पुलिस और स्टूडेंट्स के बीच तीखी बहस भी हुई. खगडि़या से आए स्टूडेंट नेता कार्तिक ने बताया कि अगर 15 जून तक मांगे पूरी नहीं होती है तो 16 जून को बिहार बंद करेंगे.

बिहार बोर्ड ने मेरा ऐसा रिजल्ट जारी किया है जिसमें मैं न तो फेल हूं और न ही पास. ऐसे में कंपार्टमेंटल परीक्षा भी नहीं दे सकता हूं और न ही स्क्रूटनी के लिए आवेदन कर सकता हूंं.

रितेश कुमार, स्टूडेंट, बेगूसराय

ब्लैंक रिजल्ट देकर बिहार बोर्ड ने एक बार फिर इतिहास रच दिया है. तीन दिनों से बोर्ड के चक्कर काट रहा हूं. लेकिन मेरी परेशानी को कोई सुन नहीं रहा हैं.

अमित कुमार, स्टूडेंट, सिवान

मेरे इंटर के रिजल्ट में न तो विषय छपा है और न ही अंक. जब मैं रिजल्ट को लेकर कार्यालय पहुंचा और सम्पर्क करने की कोशिश की तो अंदर जाने से मना कर दिया गया.

अभिराज, स्टूडेंट, रोहतग