सीबीआइ के पत्र के आलोक में मुख्यालय से लिया गया निर्णय

श्चड्डह्लठ्ठड्ड@द्बठ्ठद्ग3ह्ल.ष्श्र.द्बठ्ठ

र्रून्स्नस्नन्क्त्रक्कक्त्र/क्कन्ञ्जहृन्: बालिका गृह यौन ¨हसा प्रकरण में जेल में बंद मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर को भागलपुर केंद्रीय कारा में शिफ्ट करा दिया गया है. मुख्यालय के आदेश पर बुधवार की देर रात अमर शहीद खुदीराम बोस केंद्रीय कारा से कड़ी सुरक्षा में ब्रजेश को कैदी वैन से भागलपुर भेजा गया. जेल अधीक्षक राजीव सिंह ने इसकी पुष्टि की. इस मामले में जेल में बंद अन्य आरोपितों को भी पटना बेउर जेल में भेजा जाना है. हालांकि, जेल अधीक्षक ने कहा कि इस मामले में जेल में बंद अन्य बंदियों के दूसरे जेल में भेजे जाने को लेकर अभी कोई निर्देश प्राप्त नहीं हुआ है. निर्देश मिलने के बाद उन सभी को भी दूसरे जेल में शिफ्ट करा दिया जाएगा.

सीबीआई कर रही है जांच

बता दें कि बालिका गृह प्रकरण की जांच सीबीआइ कर रही. मुजफ्फरपुर जेल में रहने से ब्रजेश द्वारा गवाहों को धमकाए जाने की आशंका को देखते हुए सीबीआइ के अनुरोध पर यह निर्णय लिया गया. गौरतलब है कि मई के आखिरी सप्ताह में बालिका गृह में यौन ¨हसा का मामला उजागर हुआ था. बाल संरक्षण इकाई के तत्कालीन सहायक निदेशक दिवेश शर्मा कीतरफ से महिला थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई गई थी. इसके बाद जिला पुलिस की तरफ से त्वरित कार्रवाई कर तीन जून को मुख्य आरोपित ब्रजेश ठाकुर समेत 10 आरोपितों को जेल भेजा गया. ब्रजेश के अलावा इंदू देवी, मीनू देवी, मंजू देवी और अनय शामिल है.

कुख्यात भी जाएंगे दूसरे जेल में

जिले में हाल के दिनों में आपराधिक घटनाओं में वृद्धि को देखते हुए कई कुख्यात बंदियों को भी दूसरे जेल में भेजा जाना है. गत महीने एके-47 से पूर्व मेयर समीर कुमार व उनके चालक की हत्या कर दी गई थी. इसके अलावा कई बड़ी लूटपाट की घटनाएं भी हुई. इन सभी के मद्देनजर भी मुजफ्फरपुर जेल में बंद कई कुख्यात बंदियों को दूसरे जेल में भेजे जाने की कवायद की जा रही.