-आईजी सिविल डिफेंस ने माना तनाव में जी रहे हैं पुलिसकर्मी

-कहा, पुलिसकर्मियों के लिए वीकली आफ का सिस्टम लागू करना जरूरी

पुलिसकर्मियों के आत्महत्या करने व हिंसात्मक रवैये की बढ़ती घटनाओं पर आईजी सिविल डिफेंस अमिताभ ठाकुर ने कहा कि पुलिस विभाग में तनाव बहुत अधिक हो गया है. पुलिसकर्मी की डयूटी का समय निर्धारित करने के साथ ही वीकली आफ सिस्टम लागू करना बहुत जरूरी हो गया है. बिना इसके पुलिसकर्मियों को तनाव से बाहर निकालने का कोई ठोस उपाय फिलहाल नहीं सूझ रहा. शुक्रवार को सर्किट हाउस में मीडिया से मुखातिब अमिताभ ठाकुर ने बताया कि कुंभ में राहत व बचाव कार्य का प्रशिक्षण वाराणसी में एनडीआरफ की टीम सिविल डिफेंस को देगी. वाराणसी स्थित चौकाघाट में एनडीआरफ के कैंप में वाराणसी, इलाहाबाद, चंदौली के 150 सिविल डिफेंस के लोगों को ट्रेनिंग दी जाएगी. उन्होंने बताया कि चंदौली में सिविल डिफेंस के लिए ट्रेनिंग सेंटर बन रहा है. यह यूपी का पहला ट्रेनिंग सेंटर होगा जो नागपुर की तर्ज पर होगा. यहां एनडीआरफ के सहयोग से सिविल डिफेंस के कार्यकर्ताओं को आपदा के समय राहत बचाव कार्य की ट्रेनिंग दी जाएगी.

गायत्री ने फंसाने की कोशिश की

आईजी सिविल डिफेंस अमिताभ ठाकुर ने कहा कि उन्हें धमकी देने के मामले में समाजवादी पार्टी के संरक्षक मुलायम सिंह यादव स्वीकार कर चुके हैं कि 10 जुलाई, 2015 को फोन पर धमकी उन्होंने ही दी थी. मुलायम सिंह यादव का कहना है कि उनकी मंशा धमकी देने की नहीं बल्कि समझाने की थी. विवेचक को अपना वायस सैंपल देने से इंकार करते हुए मुलायम सिंह यादव ने यह बयान दिया था. कोर्ट ने इस मामले में विवेचक को अपनी रिपोर्ट तैयार करके देने को कहा है. खुद पर लगे दुष्कर्म के मुद्दे पर अमिताभ ठाकुर ने कहा कि गायत्री प्रजापति ने उन्हें फंसाने के लिए साजिश रची थी. आज हालत यह है कि दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराने वाली महिला ही अपने पति के साथ गायब है. यौन शोषण के मुद्दे पर थोड़ा गंभीर होना होगा. जरूरी नहीं कि हर बार पुरुष गलत ही हो.