एसएसपी ने जेल प्रशासन को जारी किया लेटर

कुख्यात बदमाशों को अलग बैरक में शिफ्ट करने के दिए निर्देश

Meerut. शहर में क्राइम को कंट्रोल करने के लिए पुलिस जेल में बंद बदमाशों का नेटवर्क तोड़ने का प्लान बना रही है. पुलिस का कहना है कि जितने भी बदमाशों का आपस में नेटवर्क है, उसे तोड़ा जाएगा. इसके तहत जेल में बंद कुख्यात बदमाशों को अलग-अलग बैरकों में रखा जाएगा. जो बदमाश एक-दूसरे के गैंग चलाने में मदद करते हैं उन्हें चिंहित कर दूसरे जिला जेलों में ट्रांसफर किया जाएगा.

क्राइम का ग्राफ

शहर में पिछले दो महीनों में क्राइम की घटनाओं में इजाफा हुआ है. जेल में बंद बदमाश अपने गुर्गो के जरिए रंगदारी, लूट व भाड़े पर हत्या की घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं. कई बदमाश जेल से ही गैंग भी चला रहे है. पुलिस बदमाशों का नेटवर्क तोड़ने में नाकाम साबित हो रही है. हाल में ही मोनू जाट के नाम से किठौर में एक व्यापारी से मांगी गई 20 लाख रूपये की रंगदारी इसी का सुबूत है.

एसएसपी का कदम

एसएसपी राजेश कुमार पांडे का कहना है कि बीतों दिनों जितनी भी घटनाएं हुई हैं, उन्हें जेल में बंद बदमाशों ने अपने गुर्गो से अंजाम दिलाया है. जेल में अभी जितने भी कुख्यात बदमाश हैं, वह एक ही बैरक में हैं और वहीं से अपना गैंग चला रहे हैं.

गिरोह में शामिल

पुलिस का कहना है कि जेल में बंद बदमाश जेल से ही अपने गैंग के सदस्यों की संख्या में इजाफा करते हैं. वह छोटे केसों में बंद युवा बंदियों को अपने जाल में फंसा लेते हैं. जब वह बंदी जमानत पर बाहर आता है तो उसे रूपयों का लालच देकर उससे किसी भी घटना को अंजाम दिलवा देते हैं.

जारी की चिट्ठी

एसएसपी ने चौ.चरण सिंह जिला कारागार प्रशासन को कुख्यात बदमाशों की बैरक बदलने के लिए चिट्ठी लिखी है. उसमें साफ लिखा है कि किसी भी कुख्यात को एक साथ एक ही बैरक में न रखा जाए.

दूसरे जिला जेलों में शिफ्ट

एसएसपी राजेश पांडे का कहना है कि जेल में बंद 12 बदमाशों को चिंहित किया गया है. उन्हें दूसरे जिलो की जेलों में शिफ्ट करने के लिए शासन को लेटर भी लिखा गया है. अगर यह बदमाशों दूसरी जेलों में शिफ्ट हो जाएगें तो उनका नेटवर्क टूट जाएगा.